आईएमएफ ने नि:शुल्क टीकाकरण की घोषणा का स्वागत किया

 
अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष ने सबको नि:शुल्क टीका और गरीबों में मुफ्त राशन के भारत सरकार की घोषणा का स्वागत किया है, लेकिन साथ ही कोविड-19 की दूसरी लहर के मद्देनजर देश का विकास अनुमान घटाने के भी संकेत दिये हैं।

आईएमएफ के संचार विभाग के सदस्य गेरी राइस ने गुरुवार को एक ऑनलाइन मीडिया ब्रीफिंग में यह बात कही।

एक प्रश्न के उत्तर में उन्होंने कहा, ''''आईएमएफ सबको टीका देने की भारत सरकार की घोषणा का स्वागत करता है।

साथ ही महामारी की समाज को कम कीमत चुकानी पड़े और आम लोगों को राहत मिले, इसके लिए अतिरिक्त समर्थन की भी हम तारीफ करते हैं।

'''' अर्थव्यवस्था के बारे में श्री राइस ने कहा कि कोविड-19 की दूसरी लहर और उससे जुड़े प्रतिबंधों के कारण भारतीय अर्थव्यवस्था में तेज गिरावट के संकेत मिलते हैं।

उन्होंने कहा, ''''हम विश्व आर्थिक ​परिदृश्य के अगले महीने जारी होने वाले अपडेट में भारत के विकास अनुमान में संशोधन करेंगे।

'''' आईएमएफ ने अप्रैल में कहा था कि वित्त वर्ष 2021-22 में भारत का विकास अनुमान 12.5 प्रतिशत रहने की उम्मीद है।

उसके बाद भारतीय रिजर्व बैंक ने भी देश का विकास अनुमान कम करके 9.5 प्रतिशत कर दिया है।

श्री राइस ने भारत को वैश्विक अर्थव्यवस्था के लिए महत्वपूर्ण बताते हुए कहा कि वैश्विक और क्षेत्रीय सकल घरेलू उत्पाद (जीडीपी) में भारत की बड़ी हिस्सेदारी है इसलिए भारत के विकास और आर्थिक परिदृश्य का प्रभाव भी व्यापक है।

इसके व्यापारिक संबंध और वैश्विक आपूर्ति श्रृंखला, खासकर दक्षिण एशिया के देशों के साथ, काफी मजबूत है।

इस कारण इसका प्रभाव भी दूसरे देशों पर पड़ेगा।

From around the web

>