वैक्सिनेशन के बिना अमेरिका में हावी होगा डाल्टा वैरिएंट

 

अमेरिका के टॉप डॉक्टर और राष्ट्रपति जो बाइडेन के चीफ मेडिकल अडवाइजर ऐंथनी फाउची का कहना है कि अगर देश में लोग वैक्सिनेटेड नहीं हुए, तो कोरोना का डेल्टा वेरियंट यहां भारी पड़ सकता है। फाउची ने कहा है कि ब्रिटेन में डेल्टा वेरियंट सबसे ज्यादा संक्रामक साबित हो रहा है। इसने अल्फा वेरियंट की जगह ले ली है। डेल्टा भारत में मिले कोरोना वायरस वेरियंट को नाम दिया गया है। फाउची का कहना है कि अमेरिका में ऐसा नहीं होने दिया जा सकता है। अमेरिका में डेल्टा वेरियंट के 6 फीसदी मामले मिले हैं और ब्रिटेन में 60 फीसदी। फाउची का कहना है कि हर टेस्ट को सीक्वेंस नहीं किया जाता है, इसलिए यह संख्या और ज्यादा होने की आशंका है।
फाउची ने अमेरिका के लोगों से अपील की है कि इससे बचने के लिए वैक्सीन लगवाएं। उन्होंने बताया है कि पहली डोज लेने के बाद दूसरी डोज जरूर लें। अभी अमेरिका में ब्रिटेन में पाया जाने वाला अल्फा वेरियंट फैला है। डेल्टा वेरियंट कम से कम 60 देशों में फैल चुका है और इसमें ज्यादा म्यूटेशन हैं। यह ऐंटीबॉडी रिस्पॉन्स से बच सकता है। ऐसे में एक डोज से ज्यादा सुरक्षा की संभावना कम है। वहीं, प्रतिष्ठित मेडिकल जर्नल 'द लैंसेट' में प्रकाशित हालिया रिसर्च रिपोर्ट के मुताबिक, Pfizer की वैक्सीन भारत में मिले कोरोना वायरस के डेल्टा वेरिएंट B.1.617.2 के खिलाफ कम असरदार पाई गई है। भारत में कोरोना महामारी की दूसरी लहर के इतने खतरनाक होने के पीछे डेल्टा वेरिएंट को ही जिम्मेदार माना जाता है।

From around the web

>