The secret of Bihars eight votes बिहार के आठ वोट का रहस्य

राष्ट्रपति के चुनाव में एनडीए की प्रत्याशी द्रौपदी मुर्मू को बिहार में आठ अतिरिक्त वोट मिले। बिहार में एनडीए के 125 विधायकों ने मतदान किया। लेकिन मुर्मू को कुल 133 वोट मिले। अब सवाल है कि ये आठ अतिरिक्त वोट कहां से आए? किस पार्टी के विधायकों ने क्रॉस वोटिंग की? बिहार में राष्ट्रीय जनता दल के विधायकों की संख्या 80 है और कांग्रेस के 19 विधायक हैं। इसके अलावा वामपंथी पार्टियों के 16 और असदुद्दीन ओवैसी की पार्टी का एक विधायक हैं। लेफ्ट और ओवैसी के विधायकों ने भाजपा उम्मीदवार को वोट किया हो इसकी संभावना कम है। सो, राजद या कांग्रेस के विधायकों ने क्रॉस वोटिंग की है।

ज्यादा संभावना इस बात की है कि कांग्रेस के विधायकों ने क्रॉस वोटिंग की होगी। क्योंकि पिछले कुछ दिनों से इस बात की चर्चा रही है कि बिहार में भाजपा के कुछ नेता कांग्रेस में सेंध लगाने का प्रयास कर रहे हैं। वैसे भी पड़ोसी राज्य झारखंड से लेकर असम और गुजरात से  लेकर मध्य प्रदेश और महाराष्ट्र तक में कांग्रेस विधायकों ने क्रॉस वोटिंग की है। कांग्रेस के मुकाबले क्षेत्रीय पार्टियां एकजुट रही हैं। लेकिन बिहार में भाजपा के नेताओं ने यह प्रचार शुरू किया है कि राजद के विधायकों ने क्रॉस वोटिंग की।

इस दावे का कोई आधार नहीं है क्योंकि यह पता नहीं लग सकता है कि विपक्ष के 116 विधायकों में से किन आठ लोगों ने क्रॉस वोटिंग की। फिर भी भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष संजय जायसवाल ने राजद नेता तेजस्वी यादव पर निशाना साधा और बिना नाम लिए कहा कि वे अपने नेताओं को हलवाहा, चरवाहा मानते हैं इसलिए उनके विधायक नाराज हैं और उन्होंने भाजपा की उम्मीदवार को वोट किया।