Sri Lankan president Singapore गोटबाया सिंगापुर भागे

कोलंबो। श्रीलंका छोड़ कर भागे राष्ट्रपति गोटबाया राजपक्षे मालदीव छोड़ कर सिंगापुर चले गए हैं और अभी तक इस्तीफा नहीं दिया है। बुधवार की आधी रात के बाद कोलंबो से भाग कर राजपक्षे मालदीव पहुंचे थे। लेकिन वहां स्थानीय नागरिकों ने उनको शरण देने का जोरदार विरोध किया। इसके बाद उनको मालदीव छोड़ कर जाना पड़ा। वे एक निजी विमान से सिंगापुर पहुंच गए हैं। सिंगापुर की ओर से जारी एक बयान में बताया गया है कि वे एक निजी यात्रा पर आए हैं। यह भी कहा गया है कि उन्होंने न तो शरण मांगी है और न शरण दिया गया है। इस बीच कोलंबो और देश के कई हिस्सों में लोगों का प्रदर्शन जारी है।

श्रीलंका से भाग कर मालदीव पहुंचने के बाद उनको सिंगापुर ले जाने के लिए निजी विमान पहुंचा था। बताया जा रहा है कि गोटबाया बुधवार देर रात भी मालदीव के वेलाना इंटरनेशनल हवाईअड्डे से सिंगापुर जाने की तैयारी में थे, लेकिन वहां हो रहे प्रदर्शन के डर से फ्लाइट छोड़ दी थी। लेकिन बाद में उन्होंने उड़ान भरी और सिंगापुर पहुंच गए। सिंगापुर के विदेश मंत्री ने गुरुवार को बताया कि राजपक्षे एक निजी यात्रा पर देश में आए थे। उन्होंने यहां शरण नहीं मांगी और न ही उन्हें शरण दी गई।

दूसरी ओर कोलंबो में विरोध प्रदर्शन अभी भी जारी है। गुरुवार को संसद भवन की सुरक्षा के लिए टैंकों की तैनाती की गई और संसद की ओर जाने वाला रास्ता बंद कर या गया। इस बीच प्रदर्शनकारियों ने राष्ट्रपति आवास और प्रधानमंत्री आवास खाली कर दिया है। इन दोनों जगहों को सेना ने अपने नियंत्रण में ले लिया है। बताया जा रहा है कि राष्ट्रपति गोटबाया के भाई और पूर्व मंत्री बासिल राजपक्षे भी अमेरिका भाग गए हैं। स्पीकर महिंदा यापा अभयवर्धने का कहना है कि अब तक गोटबाया का इस्तीफा नहीं मिला है।

राष्ट्रपति के इस्तीफा नहीं देने की वजह से प्रदर्शन शांत नहीं हो रहा है। प्रदर्शनकारियों पर काबू करने के लिए सुरक्षा बलों के जवान आंसू गैस के गोले छोड़ रहे हैं या हल्का बल प्रयोग कर रहे हैं। प्रदर्शन के दौरान एक व्यक्ति की मौत हो गई और 75 से ज्यादा लोग घायल हुए हैं। इस बीच गुरुवार को दोपहर 12 बजे से शुक्रवार सुबह पांच बजे तक कोलंबो में कर्फ्यू लगाया गया।