अमला को कहा गया था 'आतंकवादी'

 

दक्षिण अफ्रीका के क्रिकेट इतिहास में हाशिम अमला का नाम सुनहरे अक्षरों में दर्ज है। मैदान पर शांत और सौम्य दिखने वाले इस बल्लेबाज ने दक्षिण अफ्रीका के लिए करीब 15 साल क्रिकेट खेली। इन 15 सालों में खेल के तीनों ही फॉर्मेट टेस्ट, वनडे और टी20 में इस बल्लेबाज ने अपनी छाप छोड़ी। उनके करियर में एक ऐसा वक्त भी आया था, जब उन्हें 'आतंकी' तक कहा गया। ये वाकया 2006 में श्रीलंका के खिलाफ टेस्ट मैच के दौरान हुआ था। तब कॉमेंट्री कर रहे पूर्व ऑस्ट्रेलिय़ाई बल्लेबाज डीन जोंस ने लाइव मैच के दौरान उन्हें ऐसा कहा था। दरअसल, मैच के दौरान अमला ने एक कैच पकड़ा तो कॉमेंट्री कर रहे जोंस ये कहते सुने गए थे कि 'आतंकवादी को एक विकेट और मिल गया'।
आज ही के दिन 1983 में दक्षिण अफ्रीका के डरबन में पैदा हुए अमला 38 बरस के हो गए हैं। उन्होंने 2019 में वनडे वर्ल्ड कप के बाद क्रिकेट को अलविदा कह दिया था, लेकिन आज भी उनकी बल्लेबाजी को याद किया जाता है। उन्होंने मैदान पर बहुत कुछ झेला। लेकिन हमेशा चुप रहे और उनका बल्ला जवाब देता गया। अमला ने नवंबर 2004 में भारत के खिलाफ टेस्ट डेब्यू किया था। जबकि उन्होंने 2008 में वनडे और 2009 में पहला अंतरराष्ट्रीय टी20 खेला। स्कूल क्रिकेट में सफल प्रदर्शन के बाद अमला को साल 2000 में न्यूजीलैंड का दौरा करने वाली दक्षिण अफ्रीका की अंडर-19 टीम में जगह मिली। इसके अगले ही साल वो वर्ल्ड कप खेलने वाली दक्षिण अफ्रीका की अंडर-19 टीम के कप्तान बने। 2004-05 के अपने घरेलू क्रिकेट सीजन के पहली 8 पारियों में इस बल्लेबाज ने चार शतक बनाए। इसी सीजन में पहले वो डॉल्फिंस टीम के कप्तान बने और फिर ये जिम्मेदारी छोड़ भी दी। इसकी साल उन्हें भारत के खिलाफ टेस्ट डेब्यू का मौका मिला और इसके बाद उन्होंने पीछे मुड़कर नहीं देखा। वो एक-एक कर रिकॉर्ड बनाते चले गए। फिर चाहें वनडे क्रिकेट हो या टेस्ट। वो दोनों ही फॉर्मेट में सफल रहे। उन्होंने वनडे में दक्षिण अफ्रीका के लिए सबसे ज्यादा 27 शतक लगाए। इसमें से 24 शतक टीम की जीत के काम आए। वो वनडे में सबसे तेज दो, तीन, चार, पांच, छह और 7 हजार रन बनाने वाले बल्लेबाज हैं। उन्होंने वनडे में मॉर्डन- डे क्रिकेट के सबसे सफल बल्लेबाज विराट कोहली से भी तेज रन बनाए। कोहली ने जहां 136 पारियों में 6 हजार रन बनाए, तो वहीं अमला ने यही आंकड़ा 123 पारी में छू लिया था। वहीं, 7 हजार वनडे रन बनाने में भी अमला कोहली से आगे रहे। उन्होंने कोहली की 161 के मुकाबले 150 पारी में इतने रन बनाए। अमला के ये आंकड़े बताते हैं कि वो मॉर्डन-डे क्रिकेट में कोहली के बराबर हैं। अमला ने 15 साल में दक्षिण अफ्रीका के लिए 124 टेस्ट में 28 शतक और 41 अर्धशतक के दम पर 9282 रन बनाए। वो दक्षिण अफ्रीका के लिए टेस्ट में तिहरा शतक लगाने वाले इकलौते खिलाड़ी हैं। वहीं, इस बल्लेबाज ने 181 वनडे में 27 शतक की मदद से 8113 रन बनाए। टी20 अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में उनके बल्ले से 44 मैच में 1277 रन निकले।

From around the web

>