वास्तु शास्त्रों में बताया गया है कि सोने का सही तरीका,जानिए किस तरह सोने से मिलेगा लाभ

 

अच्छी सेहत के लिए भरपूर नींद लेना जरूरी है। दिनभर थकने के बाद हम रात को सोते समय इस बात का ध्यान नहीं रखते हैं कि किस दिशा में हमारा सिर है। कई बार सोते समय हम ऐसी गलती कर देते हैं जिसका असर हमारी लाइफ पर पड़ता है। पर्याप्त नींद लेने का महत्व विज्ञान और धर्म दोनों में ही बताया गया है। वास्तु शास्त्रों में बताया गया है कि सोने का सही तरीका क्या होना चाहिए। शास्त्रों के मुताबिक सोते समय हमारा सिर दक्षिण या उत्तर दिशा में होना चाहिए। यानी यह स्वाभाविक है कि हमारा पैर उत्तर और पश्चिम दिशा में होना चाहिए। जानिए किस दिशा में सोना आपके लिए फायदेमंद हो सकता है।

दक्षिण दिशा की ओर सिर रखने का फायदा
वास्तु के अुनसार, दक्षिण दिशा में सिर रखकर सोने से सेहत अच्छी रहती है और आप तमाम तरह की बीमारियों से दूर रहते हैं। यह मान्यता वैज्ञानिक तथ्यों पर भी आधारित है। मान्यता है कि दक्षिण दिशा में पैर करके सोने से चुंबकीय धारा पैर से प्रवेश करते हुए सिर से निकलती है। इसकी वजह से मानसिक तनाव बढ़ता है और सुबह उठने पर आपका मन भारी लगता है।

पूरब दिशा में रखें सिर
इसके अलावा आप चाहें तो पूरब दिशा में सिर और पश्चिम दिशा में पैर रख सकते हैं। ऐसा इसलिए क्योंकि सूरज पूरब की ओर से निकलता है और हिंदू धर्म में सूर्य को जीवनदाता के रूप में माना गया है। ऐसे में पूरब दिशा में पैर करके सोना शुभ नहीं माना जाता है। इसलिए पूरब दिशा मे सिर रखना अच्छा होता है। ऐसा करने से आपकी आयु भी लंबी होती है।

From around the web

>