Browsing: Religion

चाहे नवविवाहित हों या विवाह के एक दो या पांच दशक भी बीत चुके हों, पति पत्नी के बीच प्रेम रहना ही चाहिए। दोनों के प्रेम का परिणाम पूरे परिवार पर सकारात्मक होता है। बच्चे सबसे अधिक प्रभावित होते हैं। यही कारण है कि आपसी प्रेम बहुत महत्वपूर्ण है. फिर भी, यदि दोनों में से किसी के भी मन में एक दूसरे को लेकर भ्रम है या उनके मन में टेंशन है, तो समझना चाहिए कि उनके कमरे में नेगेटिव एनर्जी अधिक है और पॉजिटिव एनर्जी कम है। पॉजिटिव एनर्जी घटने और नेगेटिव एनर्जी बढ़ने के कई कारण हैं। पति-पत्नी के विवाद के वास्तु दोष 1यदि ऐसा होता है, तो आपको सबसे पहले यह सुनिश्चित करना चाहिए कि आपके घर के मिरर या शीशे में आपका चेहरा चिटका हुआ है या नहीं। फिर वॉशरूम, जहां आप नहाने जाते हैं, या ड्रेसिंग टेबल का शीशा हो सकता है। टूटा हुआ शीशा नेगेटिव एनर्जी बनाता है। यदि ऐसा है तो उस शीशे को तुरंत बदल देना चाहिए; इस काम में जितनी जल्दी आप करेंगे, उतना अच्छा होगा। 2यदि किसी कारण से पति पत्नी के बीच मतभेद या संबंधों में कड़वाहट होने लगी है, तो प्रेम बर्ड्स या मेडरिन डक्स का एक जोड़ा बेड के दायीं या बायीं ओर साइड टेबल पर रखना चाहिए। यह शीशे, पोर्सिलिन या टेराकोटा से बना होता है। आपसी प्रेम बढ़ता है और दोनों एक दूसरे को पहले से भी अधिक प्यार करने लगते हैं। 3। बेडरूम में इन सकारात्मक चीजों को रखने से दोनों का जीवन सुखमय होता है।…

Sankashti chaturthi 2023 : विकट संकष्टी चतुर्थी के दिन गणपति बप्पा की पूजा, व्रत और रात्रि में चंद्रमा की पूजा करनी…

Surya Grahan 2023: हिंदू धर्म में सूर्य ग्रह का बहुत महत्व माना जाता है। धार्मिक मान्यताओं के अनुसार अमावस्या के दिन…