नाक पर तिल का होना माना जाता है सौभाग्यशाली तो होंठ पर तिल होना इस बात का होता है सूचक

 

समुद्र शास्त्र के अनुसार मनुष्य के शरीर के तिल किसी न किसी बात की सूचना देते हैं। हर तिल का अपना महत्व होता है। कोई तिल शुभ तो कोई अशुभ फल देता है। कौन सा तिल सौभाग्यशाली और कौन सा परेशानी देने वाला है ये उस तिल के स्थान से पता चलता है। अत: तिल शरीर के किस हिस्से में मौजूद है उससे उसके प्रभाव के बारे में बताया जा सकता है जानिए शरीर पर मौजूद तिलों का रहस्य….

- अगर किसी व्यक्ति के ललाट के मध्य भाग में तिल है तो उसे निर्मल प्रेम की निशानी माना जाता है। ललाट के दाहिने तरफ तिल का होना काम में निपुणता लेकिन बायीं तरफ तिल का होना खर्चीले स्वभाव को दर्शाता है।

- दोनों भौहों पर तिल होना अत्याधिक यात्रा करने का सूचक होता है। दाहिनी पर तिल सुखी जीवन और बायीं तरफ तिल दांपत्य जीवन में परेशानियों का सूचक होता है।

- आंख की पलकों पर तिल होना संवेदनशील स्वभाव का सूचक होता है। दायीं पलक पर तिल वाले व्यक्ति बायीं वालों की अपेक्षा ज्यादा संवेदनशील होते हैं।

- कान पर तिल होना अल्पायु का संकेत देता है और नाक पर तिल होना सौभाग्यशाली माना जाता है। ऐसे व्यक्ति का जीवन सुखमय होता है।

- होंठ पर तिल होना आपके हृदय में अति प्रेम भरे होने का सूचक होता है। यदि तिल होंठ के नीचे हो तो ये आर्थिक स्थिति कमजोर रहने का सूचक होता है।

- गाल पर लाल तिल का होना शुभ माना जाता है। तो वहीं बाएं गाल पर काला तिल व्यक्ति को निर्धन तो दाएं गाल पर धनी बनाता है।

- हथेली में तिल अगर मुठ्ठी में बंद हो जाता है तो ऐसे व्यक्ति बहुत भाग्यशाली होते हैं।

- गले पर तिल होने वाले व्यक्ति को आराम करना काफी अच्छा लगता है। गले पर सामने की ओर तिल हो तो जातक काफी मिलनसार होता है। गले के पिछले भाग पर तिल होने पर जातक कर्मठ होता है।

- कमर पर तिल होना जिंदगी भर परेशानी रहने का सूचक होता है और पीठ पर तिल होना व्यक्ति को भौतिकवादी, महत्वाकांक्षी एवं रोमांटिक बनाता है।

- पैरों पर तिल होना जीवन में भटकाव होने का सूचक होता है। ऐसा व्यक्ति यात्रा करने के शौकिन होते हैं।

From around the web

>