जीवन में आचार्य चाणक्य की ये बातें याद रखेंगे तो कभी नहीं झेलनी पड़ेगी आर्थिक तंगी

 

आचार्य चाणक्य द्वारा रचित चाणक्य नीति ग्रंथ में जीवन से जुड़ी तमाम समस्याओं के निवारण के बारे में बताया गया है। माना जाता है कि यदि चाणक्य की इन नीतियों को जीवन में उतार लिया जाए तो व्यक्ति को उसके काम में कभी असफलता नहीं मिल सकती। चाणक्य नीति में धन को लेकर भी कुछ नियम बताए गए हैं।

1. चाणक्य नीति के अनुसार धन की देवी मां लक्ष्मी है। लक्ष्मी जी चंचल स्वभाव की होती हैं। वे कभी एक स्थान पर टिक कर नहीं रहतीं। यदि मां लक्ष्मी के आशीर्वाद से धन की प्राप्ति हुई है तो उस धन को व्यर्थ में बर्बाद नहीं करना चाहिए। किसी भी साधन का गलत ढंग से प्रयोग करने से उसका अस्तित्व समाप्त होने लगता है।

2. चाणक्य के अनुसार जो व्यक्ति धन की बचत करता है और अनावश्यक चीजों पर धन का व्यय नहीं करता है, ऐसे व्यक्ति को लक्ष्मी जी अपना आर्शीवाद प्रदान करती हैं। चाणक्य का मानना था कि हर व्यक्ति को धन की बचत करना चाहिए क्योंकि ये वो मित्र है जो बुरे समय में साथ निभाता है। जब बुरा समय आता है तो आपके करीबी मित्र भी साथ छोड़ देते हैं, लेकिन संचय किया हुआ धन उस वक्त में काम आता हैं लेकिन अगर इस धन को आय से अधिक खर्च किया जाए तो ये व्यक्ति को परेशानी में डाल देता है। इसलिए धन की कद्र करना सीखो।

3. इसके अलावा धन का प्रयोग हमेशा शुभ कार्यों में करो। कभी किसी का अहित करने के लिए धन का प्रयोग नहीं करना चाहिए। ऐसे लोगों से मां लक्ष्मी नाराज हो जाती हैं और उन्हें जीवन में बहुत कष्ट उठाने पड़ते हैं।

From around the web

>