ज्योतिष शास्त्र के अनुसार इस वजह से उत्पन्न होती है बालों की कितने की समस्या

 

बालों के गिरने की समस्या से तमाम लोग परेशान हैं। डॉक्टर्स के पास इनके इलाज के लिए कई तरह की दवाइयां उपलब्ध हैं। लेकिन ज्योतिष शास्त्र की मानें तो बालों के गिरने की समस्या कुंडली में कुछ खास ग्रहों की दशा कमजोर होने पर उत्पन्न होती है। ऐसे में इन ग्रहों की दशा को मजबूत करके बालों के गिरने की समस्या से काफी हद तक छुटकारा पाया जा सकता है। कहते हैं कि जिस व्यक्ति के शरीर में प्रोटीन की कमी होती है, उसके बाल काफी जल्दी गिरने लगते हैं। ज्योतिष के अनुसार जिस व्यक्ति की कुंडली में मंगल ग्रह की दशा कमजोर होती है, वह शारीरिक कमजोरी का सामना करने लगता है। ऐसे व्यक्ति के शरीर में प्रोटीन की कमी हो जाती है और उसके बाल गिरने लगते हैं।

इसके अलावा कुंडली में बृहस्पति ग्रह की दशा कमजोर होने पर भी बालों के गिरने की समस्या उत्पन्न हो जाती है। कहते हैं कि लड़कियों की कुंडली में अक्सर यह समस्या पैदा हो जाती है। और मौसम बदलते ही लड़की के बाल तेजी से गिरने लगते हैं। मालूम हो कि कुंडली में इन ग्रहों को मजबूत करने के उपाय भी बताए गए हैं। कहा जाता है कि इन उपायों का पालन करके गिरते बालों को रोका जा सकता है। हालांकि डॉक्टर से दवाइयां लेने की भी बात कही गई है।

कहते हैं कि कुंडली में राहु की दशा मजबूत करने के लिए मछलियों को आटे की गोलियां खिलानी चाहिए। आप आटे की गोलियों के अलावा दाने भी खिला सकते हैं। कहा जाता है कि इससे बाल की रूसियां समाप्त होती हैं। इसके अलावा चीटियों को आटा खिलाने से भी ग्रहों की दशा मजबूत होने की मान्यता है। ऐसा कहा जाता है कि जिन लोगों के बाल जन्म से ही भूरे होते हैं, वे लोग काफी भाग्यशाली होते हैं। ऐसे लोगों को अपने प्रयासों में काफी सफलता मिलती है।

From around the web

>