आचार्य चाणक्य के अनुसार इनको नींद से जगाना हानिकारक साबित हो सकता है

 
आज हम आपको चाणक्य द्वारा बताई गई नींद से जुड़ी कुछ खास बातें बताने जा रहे हैं जिसमें उन्होंने बताया है कि किन लोगों की नींद से जगाना हानिकारक साबित हो सकता है। तो आइए जानते हैं चाणक्य के उस नीति ग्रंथ में जिसमें उन्होंने जीवन को सुखमय एवं सफल बनाने के लिए उपयोगी सुझाव दिए हैं।

1. चाणक्य के अनुसार किसी राजा या बड़े अधिकारी को जगाने से पहले अच्छे से सोच विचार कर लेना चाहिए। क्योंकि इन लोगों को जगाने से ये आप पर क्रोधित हो सकते हैं। प्राचीन समय में राजाओं को बिना किसी कारण उठाना एक अपराध के समान माना जाता है।

2. चाणक्य कहते हैं किसी मूर्ख व्यक्ति को नींद में से जगाने से परेशानियों का सामना करना पड़ सकता है। क्योंकि शास्त्रों के अनुसार बुद्धिहीन व्यक्ति हमेशा समय पर उठता है और समय पर ही अपना काम करता है।

3. कहा जाता है जानवरों को अपनी नींद सबसे प्यारी होती है। लेकिन बात जब जंगल के राजा शेर की हो तो इस बात का ज्यादा ध्यान रखना चाहिए। कहा जाता अगर सोते हुए शेर को छेड़ा जाए तो उसके गुस्से में आकर आपर पर हमला करने के आसार बनते हैं

4. अपने नीति शास्त्र में चाणक्य ने कहा है कि छोटे बच्चों को भी कभी नींद से नहीं जगाना चाहिए। क्योंकि बच्चा उठते ही रोना शुरू कर देता है। जो सेहत की दृष्टि से भी उसके लिए अच्छा माना जाता है।

5. सोते हुए सांप को भी जगाने वाला व्यक्ति भी मुश्किलों में घिर सकती है। इसके अलावा सोते हुए कुत्ते को कभी नहीं जगाना चाहिए। भलाई इसी में है कि अगर कुत्ता सो रहा हो तो उसके सामने से चुपचाप गुजर जाएं।

From around the web

>