केंद्र सरकार ने जासूसी के कार्य में उपयोग होने वाला ‘पेगासस’ का लायसेंस खरीदा है या नहीं: कमलनाथ

 

पेगासस जासूसी मामले में केंद्र सरकार को घेर रही मुख्य विपक्षी दल कांग्रेस के वरिष्ठ नेता एवं पूर्व केंद्रीय मंत्री कमलनाथ ने आज कहा कि इस मामले में केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार को साफतौर पर स्पष्ट करना चाहिए कि उसने इजराइली कंपनी से जासूसी के कार्य में उपयोग होने वाला ‘पेगासस’ का लायसेंस खरीदा है या नहीं। पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ ने यहां प्रदेश कांग्रेस कार्यालय में पत्रकारों से चर्चा में कहा कि पेगासस मामले में केंद्र सरकार सीधा जवाब दे।

साथ ही केंद्र सरकार को स्पष्ट करना चाहिए कि उसने पेगासस लायसेंस राष्ट्रीय सुरक्षा के मद्देनजर खरीदा है या फिर अपनी सरकार के लिए। उन्होंने दावा करते हुए कहा कि केंद्र सरकार ने पेगासस का लायसेंस खरीदा है और इसका उपयोग प्रमुख लोगों की जासूसी कराने के लिए हुआ है। वरिष्ठ कांग्रेस नेता ने कहा कि पेगासस मामले में केंद्र सरकार और उससे जुड़े जिम्मेदार लोगों को गोलमोल जवाब देने की बजाए स्पष्ट उत्तर देकर जांच की पहल करनी चाहिए।

उन्होंने संकेत दिए कि आने वाले समय में इस मामले में और खुलासे होंगे। कमलनाथ ने बढ़ती महंगाई पर भी चिंता जाहिर की और कहा कि आर्थिक गतिविधियां ठप्प होने से नौजवानों के समक्ष रोजगार के संकट आ गए हैं। इसके लिए उन्होंने केंद्र की नीतियों को जिम्मेदार ठहराया। उन्होंने कहा कि महंगाई के कारण मध्यम वर्गीय गरीब हो रहा है और गरीब की स्थिति और दयनीय होती जा रही है। उन्होंने कहा कि वास्तव में रोजगार के अवसर मुहैया कराने के लिए आर्थिक गतिविधियों को बढ़ाने की आवश्यकता है।

From around the web

>