प्रदेश में परवान नहीं चढ़ सकीं हेली सेवाएं, एनडी तिवारी सरकार में जैक्शन एयरवेस का हुआ था बुरा हाल

 

उत्तराखंड में हेली सेवाएं कभी परवान चढ़ ही नहीं सकीं। अब धामी सरकार में हेली सेवाओं को बेहतर बनाने के लिए देहरादून से हल्द्वानी, पंतनगर और पिथौरागढ़ के लिए हेली सेवा की शुरुआत हुई हो लेकिन किराया अधिक होने के कारण लोग हेली सेवा में सफर करने से बच रहे हैं। हल्द्वानी से पिछले चार दिनों में महज दो यात्रियों ने हेलीकॉप्टर से पिथौरागढ़ के लिए सफर किया है।

बता दें कि 10 अक्तूबर 2021 से देहरादून, हल्द्वानी और पिथौरागढ़ के लिए हेली सेवा की शुरुआत की गई थी। पहले दिन हल्द्वानी से कोई भी यात्री देहरादून व पिथौरागढ़ के लिए नहीं गया। 11 अक्तूबर को हल्द्वानी से केवल 2 यात्री पिथौरागढ़ के लिए रवाना हुए। 12 और 13 अक्तूबर को भी कोई यात्री नहीं मिले। पवनहंस हेली सेवा में हल्द्वानी से देहरादून के लिए 5967 हल्द्वानी से पिथौरागढ़ के लिए 4856 और पिथौरागढ़ से देहरादून के लिए ₹7999 का किराया निर्धारित किया गया है।

एनडी तिवारी सरकार में जैक्सन एयरलाइंस का बुरा हाल

ऐसा नहीं है कि उत्तराखंड में हेली सेवाओं की शुरुआत के कदम धामी सरकार में ही उठाए गए हों। इससे पहले भी कई मुख्यमंत्रियों ने इस दिशा में कदम उठाए। लेकिन दूरदर्शिता के अभाव में योजनाएं परवान नहीं चढ़ सकी। प्रदेश में पांच साल का कार्यकाल पूरा करने वाली एनडी तिवारी सरकार में भी जैक्सन एयरलाइंस की शुरुआत की गई थी। लेकिन आर्थिक संकट के चलते जैक्सन की सेवाएं ज्यादा दिन तक नहीं चल सकी। यही नहीं विमान के टिकटों को खरीदने के लिए कुमाऊं मंडल विकास निगम को भी लगाया गया था। इस कारण कुमाऊं मंडल विकास निगम को भी लाखों की चपत लगी थी। आखिरकार जैक्सन एयरलाइंस का संचालन ठप हो गया।

प्रदेश की भौगोलिक परिस्थितियां नहीं है अनुकूल

प्रदेश में हेली सेवाओं के परवान न चढ़ने का एक कारण यहां की भौगोलिक परिस्थितियां भी हैं। पर्वतीय क्षेत्रों में मौसम में बदलाव के चलते भी हेली सेवाएं बाधित हो जाती हैं। पिछले दिनों ही देहरादून से हल्द्वानी पहुंचने के दौरान खराब मौसम के चलते मुख्यमंत्री  पुष्कर सिंह धामी का विमान हल्द्वानी में उतर नहीं सका था। ऐसी ही स्थितियां अक्सर पिथौरागढ़, अल्मोड़ा जैसे पहाड़ी क्षेत्रों में आती हैं। अब जबकि धामी सरकार में पवनहंस हेली सेवा की शुरुआत की गई है, तो इसके संचालन पर भी कई सवाल उठ रहे हैं। महंगा टिकट होने के साथ ही आने वाले वक्त में विपरीत मौसम भी इसके आड़ों आ सकता है।

From around the web