योगी सरकार ने पिछले जिलों में धार्मिक पर्यटन को दिया प्रोत्साहन

 

उत्तर प्रदेश सरकार का दावा है कि मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के निर्देश पर पिछड़े जिलों में स्थित सांस्कृतिक और धार्मिक धरोहरों को दुनिया भर में पहचान दिलाने की कवायद जारी है।
इसका परिणाम है कि पहली बार प्रदेश में श्रावस्ती, बलरामपुर, देवीपाटन और गोण्डा जिलों के दर्शनीय स्थलों को पर्यटन के तौर पर विकसित करने का काम तेजी से पूरा किया जा रहा है।

आधिकारिक सूत्रों ने सोमवार को बताया कि पिछली सरकारों की उपेक्षा के कारण अभी तक ये यह सभी स्थल पर्यटकों की नजर से दूर थे।

अब उनको विकसित कर यहां पर्यटकों की संख्या बढ़ाने के साथ-साथ युवाओं और यहां के व्यवसाय और शिल्पकलाओं को बढ़ावा देने के प्रयास शुरू हो गये हैं।

उन्होने बताया कि योगी सरकार ने अब तक अपने चार साल के कार्यकाल में पर्यटकों के लिए यूपी में अनूठे और आकर्षक पैकेज भी तैयार किये हैं।

जिससे पर्यटन की संभावनाओं को पंख लगना शुरू हो गये हैं।

योगी सरकार के प्रयासों से इन स्थलों पर पर्यटन को बढ़ावा मिलने से रोजगार के अवसर बढ़ रहे हैं।

गाइड के रूप में स्थानीय लोगों को रोजगार मिलना शुरू हुआ है।

पर्यटन स्थलों के आसपास वहां की स्थानीय चीजों की बिक्री भी पहले से बढ़ी है और स्थानीय शिल्पकारों को रोजगार मिलना शुरू हा गया है।

सूत्रों ने बताया कि आज बौद्ध सर्किट में श्रावस्ती, कपिलवस्तु और कुशीनगर अैर रामायण सर्किट मंर चित्रकूट एवं श्रृंगवेरपुर में पर्यटन सुविधाओं का विकास शुरू हो चुका है।

24 जनवरी को उत्तर प्रदेश दिवस के अवसर पर विभिन्न क्षेत्रों में उल्लेखनीय प्रदर्शन करने वाले महानुभावों को सम्मान किया गया।

जिसकी तरफ पिछली सरकारों ने कभी ध्यान ही नहीं दिया।

योगी सरकार में ही गोरखपुर के रामगढताल में वाटर स्पोर्ट्स की गतिविधियां शुरू हुईं।

पीलीभीत में टाइगर रिजर्व की ओर पर्यटकों का रुझान बढ़ने लगा है।

योगी सरकार ने अपने चार सालों में पर्यटन स्थलों के लिये ऐसी अनूठी और आकर्षक पहल की है जिसको दुनिया भर में सराहना मिली है।

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के प्रयासों का ही परिणाम है कि विश्व का सबसे बड़ा सांस्कृतिक गौरव प्रयागराज कुम्भ 2019 के आयोजन को यूनेस्को की सरहना के साथ भव्य रूप से सम्पन्न कराया गया।

इसके साथ ही अयोध्या में भव्य राम मंदिर निर्माण के लिए प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी द्वारा भूमि पूजन सम्पन्न कराना भी इतिहास में दर्ज हो गया।

From around the web

>