फिरोजाबाद: आंखों में आंसू लिए बेटी ने निभाया बेटे का फर्ज, माता-पिता को दी मुखाग्नि

 

मटसेना इलाके के फतेहपुर कटेना सीकेरिया गांव में दंपति की एक साथ मौत हो गई। दंपति की संतान के रूप में उनकी पांच बेटियां है। सिर से माता-पिता का साया उठने के बाद उनकी 14 वर्षीय बेटी ने ही बेटे का फर्ज निभाया। आंखों में आंसू लिए माता-पिता को मुखाग्नि दी। बेटी द्वारा अंतिम संस्कार गांव में चर्चा का विषय बन गया।

कैंसर की बीमारी से ग्रसित किसान राजेश्वर सिंह निवासी फतेहपुर कटेना सिकेरिया अपना इलाज करा रहे थे। उनकी पहली पत्नी राम धकेली के कोई संतान नही होने पर उन्होंने दूसरी शादी की। दूसरी पत्नी से उन्हें पांच बेटियां हुई थी। लंबे समय से उनका कैंसर का इलाज चल रहा था। बुधवार को दोपहर को ही उनकी कैंसर से निधन हो गया। बताया जा रहा है कि पति की मौत के बाद राम धकेली को हार्ट अटैक हुआ और उसकी भी मौत हो गई।

आगे आई बेटी- बोली मैं दूंगी मुखाग्नि
दंपति की मौत के बाद इलाके में मातम हो गया। अब ये सवाल हुए की इनका अंतिम संस्कार कैसे कराया जाय। तभी उनकी बेटी राधा आगे आई। बोली- अपने माता-पिता के अंतिम संस्कार के लिए मैं तैयार हूं। मैं उनको मुखाग्नि दूंगी। ग्रामीणों ने ये तय किया के आजकल लड़का और लड़की एक समान है और बिटिया ही अंतिम संस्कार करेगी।

आंखों में आंसू लिए दी मुखाग्नि
बेटी राधा की आंखों से झर-झर आंसू बह रहे थे। राधा ने अपने माता पिता को मुखाग्नि दी। मृतक दंपत्ति अपने पीछे 5 बेटियों को रोता-बिलखता छोड़ गया। अभी तक किसी बेटी की शादी भी नहीं कर सके थे। मृतक की दूसरी पत्नी का भी रो-रो कर बुरा हाल हो रहा था। उसके सामने पांच बेटियों के लालन पालन की समस्या खड़ी हो गई है। गांव के लोग उसे सांत्वना रहे है।

From around the web

>