महिलाओं को रुपये बांटकर नए विवाद में फंसे तेजस्वी यादव

 

विपक्ष के नेता तेजस्वी प्रसाद यादव द्वारा गोपालगंज में महिलाओं के बीच रुपये बांटने के वायरल वीडियो पर सियासत तेज हो गई है। इसको लेकर जदयू नेता व पूर्व मंत्री नीरज कुमार ने राज्य निर्वाचन आयोग को पत्र भेजकर शिकायत की है। इसके जवाब में राजद नेता चितरंजन गगन ने कहा है कि जदयू नेताओं को पंचायत चुनाव में लागू आचार संहिता का अध्ययन करना चाहिए। भाजपा ने इसे आचार संहिता का उल्लंघन माना है। वहीं, आयोग ने कहा है कि शिकायत मिलने पर संज्ञान लिया जाएगा। नीरज कुमार ने कहा है कि गोपालगंज जिले के बैकुंठपुर प्रखंड के बांसघाट मसुरिया पंचायत के गरौली में महिलाओं के बीच तेजस्वी यादव रुपये बांट रहे हैं। उन्होंने लिखा है कि बैकुंठपुर के विधायक प्रेम शंकर के पैतृक गांव में तेजस्वी यादव महिलाओं से मिले और आशीर्वाद प्राप्त किया, शीर्षक से राजद के फेसबुक पर भी संबंधित वीडियो डाला गया है। वीडियो में साफ दिख रहा है कि तेजस्वी यादव अपने हाथों से रुपये बांट रहे हैं। यह आदर्श आचार संहिता के प्रावधान के विपरित आचरण है।

उन्होंने आयोग के आयुक्त को लिखे पत्र में आग्रह किया है कि पंचायत चुनाव को लेकर ग्रामीण क्षेत्रों में आदर्श आचार संहिता लागू है और ऐसे में रुपये बांटने के आचरण को संज्ञान में लेकर कार्रवाई सुनिश्चत करें। राजद के वरीय प्रवक्ता चितरंजन गगन ने जवाब में कहा है कि जदयू नेताओं को पंचायत चुनाव में लागू आचार संहिता का अध्ययन करना चाहिए। उन्हें मालूम होना चाहिए कि पंचायत चुनाव में आदर्श आचार संहिता फेजवाइज लागू की गई है। जहां की घटना की चर्चा जदयू नेता कर रहे हैं वहां दिसंबर में चुनाव है। पूर्व उप मुख्यमंत्री व भाजपा सांसद सुशील कुमार मोदी ने विपक्ष के नेता तेजस्वी यादव द्वारा पैसा बांटे जाने को आचार संहिता का उल्लंघन माना है।

उन्होंने शुक्रवार को ट्वीट कर कहा कि तेजस्वी यादव ने नकद रुपये बांट कर गरीबों की मदद नहीं की, बल्कि उनका अपमान किया। नेता प्रतिपक्ष का यह आचरण आचार संहिता का उल्लंघन है। मोदी ने कहा कि लालू परिवार के किसी सदस्य को यदि राजद शासन के समय चारा-अलकतरा घोटालों और काम के बदले जमीन लिखवाने जैसे भ्रष्टाचार से कमाई गई संपत्ति से गरीबों की कुछ मदद करनी होती, तो वे अच्छे स्कूल-अस्पताल खुलवाते। राज्य निर्वाचन आयोग सचिव मुकेश सिन्हा ने कहा कि पंचायत चुनाव में पैसे बांटने की शिकायत मिलने पर आयोग संज्ञान लेगा। संबंधित जिलाधिकारी से जांच कराई जाएगी। जांच के बाद देखा जाएगा कि आदर्श आचार संहिता का उल्लंघन का मामला बनता है कि नहीं। दरअसल, जदयू नेता नीरज कुमार ने तेजस्वी यादव पर आदर्श आचार संहिता उल्लंघन करने का आरोप लगया है। उन्होंने आयोग को शिकायत की चिट्ठी भेजी है।

From around the web