कोरोना गाइडलाइन में कोई छूट नहीं, मकर संक्रांति पर रहेगी सख्ती

 

बिहार में कोरोना संक्रमित मरीजों की संख्या में तेजी से इजाफा हो रहा है. प्रदेश में कोरोना मरीजों की बढ़ती संख्या को देखते हुए पाबंदियों में कोई छूट नहीं देने का फैसला लिया गया है. मुख्य सचिव आमिर सुबहानी की अध्यक्षता में संपन्न हुई क्राइसिस मैनेजमेंट ग्रुप की हुई समीक्षा बैठक में यह निर्णय लिया गया है.

क्राइसिस मैनेजमेंट ग्रुप की हुई समीक्षा बैठक में राज्य के सभी जिलों को संक्रमण की दर पर नजर रखने को कहा गया है. इसके साथ ही मकर संक्रांति के मौके पर भीड़ नही होने देने का निर्देश सभी जिलाधिकारियों को दिया गया है. मुख्य सचिव आमिर सुबहानी की अध्यक्षता में बुधवार को क्राइसिस मैनेजमेंट ग्रुप की बैठक हुई. बैठक में मकर संक्रांति को देखते हुए जिलों को कोरोना गाइड लाइन का सख्ती से पालन कराने का निर्देश दिया गया.

समीक्षा बैठक में पुराने प्रतिबंधों को ही सख्ती से पालन कराने का निर्णय लिया गया. किसी तरह के नये प्रावधान लागू करने की बात नहीं की गयी. समीक्षा बैठक में आला अधिकारियों के साथ सभी जिलों के डीएम और एसपी भी वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिये जुड़े हुए थे.

गृह विभाग के अपर मुख्य सचिव चैतन्य प्रसाद ने बताया कि सभी जिलाधिकारियों, वरीय पुलिस और पुलिस अधीक्षकों से लगातार फिडबैक लिया जा रहा है. अभी स्थिति कहीं भी गंभीर नहीं है. ऐसे में जिलों को पूर्व में दिये गये निर्देश के आलोक में विशेष अभियान चलाकर राज्य में कोरोना महामारी की रोकथाम के प्रतिबंधों का क्रियान्वयन और सख्ती से पालन कराने को कहा गया है.

साथ ही बिहार में सभी जिलों को मास्क पहनने का अभियान चलाने और सामाजिक दूरी के प्रावधानों को लागू करने का निर्देश दिया गया है. वहीं, सभी सड़कों, दुकानों, वाहनों, अस्पतालों, पुलिस लाइनों और जेलों में कोरोना अनुकूल व्यवहार के तहत विशेषकर मास्क पहनने की जांच कराने को कहा गया है.

From around the web