विधायक ने किया भंडारगृह का निरीक्षण, जांची फोर्टिफाइड चावलों की गुणवत्ता

 

 छत्तीसगढ़ राज्य भंडारगृह निगम के अध्यक्ष एवं विधायक अरुण वोरा ने महासमुंद में राज्य भंडारगृह निगम के गोदाम का निरीक्षण किया। उन्होंने सार्वजनिक वितरण प्रणाली एवं फोर्टिफाइड चावलों की गुणवत्ता जांची। विधायक वोरा ने भंडारगृह की साफ-सफाई एवं फ्यूमिगेशन का जायजा लिया।

शाखा प्रबंधक आर.एस. नयन ने बताया कि महासमुंद ब्रांच की यूटिलाइजेशन सौ फीसदी होने के कारण भंडारगृह की स्वनिर्मित क्षमता 49,960 मीट्रिक टन की है। इसके अलावा 1875 मीट्रिक टन का गोदाम भी किराए से लिया गया है। जिसे मिलाकर भंडारण की क्षमता बढ़कर 51 हजार 835 मीट्रिक टन की हो गयी है जिसमें से 20 हजार मीट्रिक टन पीडीएस एवं बाकी की क्षमता का उपयोग केंद्रीय पूल के लिए किया जा रहा है।

उन्होंने कहा कि भंडारगृह की क्षमता बढ़ाने की दिशा में लगातार काम हो रहा है, जिसके लिए पुराने गोदामों के संधारण के साथ ही नवीन गोदामों का निर्माण कार्य भी तेजी से जारी है। खाद्य पदार्थों की जांच में प्रदेश को आत्मनिर्भर बनाने के लिए 14 करोड़ की लागत से नवा रायपुर में मध्य भारत का पहला फूड टेस्टिंग लैब स्थापित किया जा रहा है। इसके अलावा दूरस्थ क्षेत्रों में समय पर पीडीएस राशन उपलब्ध करवाने प्रदेश भर में 1500 दुकान सह गोदामों का भी निर्माण स्वीकृत किया गया है।

निगम के अध्यक्ष अरूण वोरा से भंडारगृह निगम के कर्मचारियों ने पॉवर स्प्रेयर एवं संस्था के संचालन के लिए इम्प्रेस्ट राशि बढ़ाई जाने का अनुरोध किया। कर्मचारियों के अनुरोध पर अध्यक्ष वोरा ने उनकी जायज मांगों पर सहानुभूति पूर्वक विचार किए जाने का भरोसा दिया। महासमुंद पहुंचने पर संगठन पदाधिकारियों द्वारा भी विधायक वोरा का कई स्थानों पर स्वागत किया गया। प्रवास के दौरान वोरा ने विधायक एवं संसदीय सचिव विनोद सेवनलाल चंद्राकर, पूर्व विधायक एवं छत्तीसगढ़ बीज विकास निगम के नवनियुक्त अध्यक्ष अग्नि चंद्राकर एवं संगठन पदाधिकारी डॉक्टर रश्मि चंद्राकर, प्रकाश राव साकरकर आदि से मिलें।

From around the web