CM के सामने प्रदर्शन की आशंका में कई कार्यकर्ता गिरफ्तार; भोपाल में दिग्विजयसिंह बोले- मोदी सरकार यानी महंगाई की सरकार

 

मध्य प्रदेश में पेट्रोल-डीजल और रसाेई गैस की मूल्य वृद्धि के खिलाफ शुक्रवार को कांग्रेस ने हल्ला बोल प्रदर्शन किया। मूल्य वृद्धि को लेकर एक साल बाद कांग्रेस एक बार फिर सड़क पर आ गई है। भोपाल, इंदौर, जबलपुर और ग्वालियर समेत अन्य जिलों में कांग्रेस के सीनियर नेताओं के नेतृत्व में विरोध प्रदर्शन किया गया। मध्यप्रदेश में पेट्रोल के दाम करीब 104 रुपए और डीजल के दाम 95 रुपए के करीब पहुंच गए हैं, जबकि भोपाल में पहली बार पेट्रोल की कीमत प्रति लीटर 104.7 रुपए हो गई है।

इधर, मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान परिवार के साथ पचमढ़ी से भोपाल लौटे। पावई में मेन रोड पर कुछ कांग्रेसी कार्यकर्ता पेट्रोल और डीजल के दाम को लेकर प्रदर्शन कर रहे थे। CM के सामने प्रदर्शन की संभावना थी, इसलिए CM के काफिला पहुंचने से पहले ही प्रदर्शन कर रहे कांग्रेसी कार्यकर्ताओं को पुलिस ने हिरासत में ले लिया। बता दें कि पेट्रोल-डीजल की कीमतों में बढ़ोतरी के खिलाफ पिछले साल भी कांग्रेस सड़कों पर उतरी थी। इस दौरान कई कांग्रेस नेता विरोध जताते हुए साइकिल से विधानसभा गए थे।

इंदौर के सभी पेट्रोल पंपों पर प्रदर्शन काली पट्टी बांधकर प्रदर्शन किया गया। केंद्र और प्रदेश सरकार के खिलाफ नारेबाजी की गई। मूल्यवृद्धि को लेकर केंद्र और राज्य सरकार को कोसा। नेताओं ने कहा- बढ़ती कीमतों पर सरकार की लगाम नही लगातार मंहगाई आसमान छू रही है। पूरी खबर पढ़ें।


भोपाल- यहां सभी पेट्राेल पंपों पर प्रदर्शन किया गया। कांग्रेस कार्यकर्ता हाथों में तख्ती लेकर विरोध जताया। विरोध प्रदर्शन में शामिल पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह ने कहा कि मोदी सरकार यानी महंगाई की सरकार।
कांग्रेस ने इस दौरान मांग की कि सेंट्रल डयूटी वापस से 9 रुपए की जाए। दावा किया गया कि ऐसा हो जाए तो डीजल-पेट्रोल पर प्रति लीटर 25-25 रुपए कम हो जाएंगे।

जबलपुर- पेट्रोलियम पदार्थों में महंगाई के विरोध में कांग्रेस ने शहर के 18 पेट्रोल पंपों पर प्रदर्शन किया। कांग्रेस के पूर्व पार्षद दल के नेता राजेश सोनकर की अगुवाई में तैयब अली पेट्रोल पंप पर धरना दिया। इसके अलावा शहर के 24 पेट्रोल पंपों पर अन्य पदाधिकारियों की अगुवाई में धरना देकर प्रदर्शन किया गया। पूरी खबर पढ़ें।

होशंगाबाद- कांग्रेस नेताओं ने शुक्रवार दोपहर डीजल-पेट्रोल के खिलाफ प्रदर्शन किया। CM शिवराज सिंह चौहान के काफिला निकलने से पहले पुलिस ने कांग्रेस कार्यकर्ताओं को गिरफ्तार किया। पुलिस ने राहुल गांधी युवा शक्ति संगठन उप प्रभारी शैलेंद्र जोशी, गुरुजी संभाग अध्यक्ष शैलू दुबे, जिलाध्यक्ष चंद्रशेखर राजपूत, जिला अध्यक्ष जनाब रशीद खान और अन्य कार्यकर्ताओं को गिरफ्तार किया।

मुरैना- सुमावली विधानसभा के विधायक अजब सिंह कुशवाहा कांग्रेसियों के साथ सबसे पहले राम प्रसाद बिस्मिल चौराहे पर पहुंचकर मूर्ति को माला पहनाई। उसके बाद साइकिल रैली निकालकर कलेक्ट्रेट पहुंचे और महंगाई को लेकर कलेक्टर को ज्ञापन सौंपा।


रतलाम- शहर के सभी पेट्रोल पंपों पर महिला कांग्रेस ने विरोध प्रदर्शन किया। रतलाम में पेट्रोल की कीमत 103 रुपए 90 पैसे प्रति लीटर, डीजल की कीमत 95 रुपए 26 पैसे प्रति लीटर हो गई है। 

गुना- यहां पेट्रोल-डीजल की कीमतों में वृद्धि के खिलाफ कांग्रेस नेताओं ने स्थानीय शास्त्री पार्क से साइकिल रैली निकाली। यहां से निकालकर हनुमान चौराहे स्थित पुलिस पेट्रोल पंप पर पहुंचकर विरोध प्रदर्शन किया। पूरी खबर पढ़ें।


छिंदवाड़ा- पेट्रोल, डीजल , रसोई गैस के दामों में बेतहाशा वृद्धि एवं सभी तरफ बढती महंगाई के विरोध में भ्रष्ट भ्रष्टपाई सरकार के विरोध में महिला कांग्रेस सोसायटी पेट्रोल पंप पर विरोध प्रदर्शन किया।

ग्वालियर- महंगाई ओर पेट्रोल दाम में वृद्धि को लेकर महिला कांग्रेस ने धरना दिया। बढ़ती महंगाई के विरोध में महिला कांग्रेस की कार्यकर्ताओं ने केसरबाग पेट्रोल पेट्रोल, मेला रोड पर विरोध प्रदर्शन कर नारेबाजी की। इस दौर महिला कांग्रेस जिलाध्यक्ष रुचि गुप्ता ने ढोलक बजाई।


खंडवा- पेट्रोल-डीजल की कीमतों में वृद्धि के खिलाफ कांग्रेस ने विरोध जताया। बुरहानपुर में प्रदर्शन का नेतृत्व करने पहुंचे पूर्व पीसीसी अध्यक्ष अरुण यादव ने केंद्र और राज्य की भाजपा सरकार पर जमकर निशाना साधा।

एक साल पहले भोपाल में था प्रदर्शन

करीब एक पेट्रोल-डीजल की कीमतों में बेतहाशा वृद्धि को लेकर कांग्रेस विधायकों ने भोपाल में प्रदर्शन किया था। एमपी विधानसभा का बजट सत्र में शामिल होने कांग्रेस के विधायक साइकिल से पहुंचे थे। पूर्व मंत्री पीसी शर्मा, जीतू पटवारी और विधायक कुणाल चौधरी साइककिल से विधानसभा गए थे। हालांकि वे ज्यादा देर साइकिल नहीं चला सके थे। प्रदर्शन के दौरान कोरोना गाइड लाइन की धज्जियां उड़ाई गई थीं।

From around the web

>