लखनऊ में उड़ी आचार संहिता की धज्जियां, 2500 सपा नेता व कार्यकर्ताओं पर मुकदमा

 

राजधानी के विक्रमादित्य मार्ग पर स्थित समाजवादी पार्टी कार्यालय पर शुक्रवार को हुए सदस्यता ग्रहण समारोह में जमकर आचार संहिता का उल्लंघन देखने को मिला। इस मामले को चुनाव आयोग ने संज्ञान में लिया है। आयोग ने सपा के दो से ढाई हजार कार्यकर्ताओं और नेताओं के खिलाफ आदर्श आचार संहिता और धारा 144 का उल्लंघन होने पर गौतमपल्ली थाने में मुकदमा दर्ज करने के आदेश दिए हैं।

थाना प्रभारी निलंबित

वहीं ड्यूटी के दौरान अपने कर्तव्यों में लापरवाही बरतने पर थाना प्रभारी गौतमपल्ली दिनेश सिंह बिष्ट को निलंबित करने के भी निर्देश दिए हैं। एसीपी हजरतगंज अखिलेश सिंह और अपर नगर मजिस्ट्रेट प्रथम गोविंद मौर्य से शनिवार सुबह 11 बजे तक स्पष्टीकरण मांगा है। जिलाधिकारी ने इसकी पुष्टि करते हुए बताया कि समाजवादी पार्टी की ओर से शुक्रवार को सपा मुख्यालय विक्रमादित्य मार्ग पर समारोह का आयोजन हुआ था। जिसमें समाजवादी पार्टी के सुप्रीमो, स्वामी प्रसाद मौर्य समेत कई नेताओं ने शक्ति प्रदर्शन किया, जो आदर्श आचार संहिता का उल्लंघन है।

इसे चुनाव आयोग ने संज्ञान में लेकर कार्रवाई करने को कहा है। पुलिस कमिश्नर डीके ठाकुर के मुताबिक, गौतमपल्ली थाने में मुकदमा दर्ज किया गया है। उन्होंने कहा कि आदर्श आचार संहिता का पालन हर हाल में किया जाना है। ऐसा न करने वालों के खिलाफ कठोर कार्रवाई अमल में लायी जायेगी।

सपा की ओर से नहीं दी गई सफाई

हालांकि समाजवादी पार्टी की तरफ से इस विवाद पर कोई सफाई पेश नहीं की गई है, लेकिन भाजपा ने इसे बड़ा मुद्दा बना लिया है। भाजपा प्रवक्ता गौरव भाटिया ने जोर देकर कहा है कि सपा ने कोरोना काल में चुनाव आयोग के नियमों का मखौल उड़ाया है, सोशल डिस्टेंसिंग के नियम को तार-तार किया गया है। लखनऊ के जिला अधिकारी अभिषेक प्रकाश ने भी इस मामले में स्पष्ट रूप से कहा है कि सपा द्वारा कार्यक्रम के लिए कोई अनुमति नहीं ली गई थी। जब इस कार्यक्रम की जानकारी मिली, तब पुलिस को सपा दफ्तर भेजा गया और अब आगे की काररवाई की जाएगी।

From around the web