लखनऊ में नाबालिग लड़कियों की तस्करी करने वाले गिरोह का पर्दाफाश, पांच गिरफ्तार

 

गोमतीनगर थाना पुलिस ने गुरुवार को अन्तरराज्यीय मानव तस्कर गिरोह के पांच सदस्यों को पकड़ा है। गरोह के पास से बालिग और नाबालिग लड़कियों को पकड़ा है। यह गिरोह इन लड़कियों को देहव्यापार में धकेलने के लिए अपने सदस्यों की मदद से राज्यों में भेजते हैं।

सहायक पुलिस आयुक्त गोमतीनगर श्वेता श्रीवास्तव ने बताया कि विपुलखंड ओवरब्रिज के नीचे रेलवे लाइन के किनारे से पांच लोगों को गिरफ्तार किया है। इनमें दो महिलाएं भी शामिल हैं। पूछताछ में अभियुक्तों ने अपना नाम लखनऊ के गाजीपुर निवासी सनी गुप्ता, असम प्रदेश निवासी फैजूद्दीन उसकी पत्नी, बरेली निवासी राहुल गौतम और एक अन्य महिला है।

प्रभारी निरीक्षक केशव कुमार तिवारी ने बताया कि इस गिरोह का सरगना फैजुद्दीन और उसकी पत्नी है। जो विभिन्न राज्यों के छोटे-छोटे जिलों में घूमते हैं। इसके बाद असहाय महिलाएं, लड़कियों को अपने संरक्षण में ले लेते हैं। कुछ दिन इनका भरणपोषण करने के बाद विश्वास में लेकर अपने गुर्गों की मदद से इन्हें देहव्यापार में अलग-अलग राज्यों में भेज देते हैं।

50हजार से एक लाख में बेची जाती है किशोरियां

एसीपी गोमतीनगर श्वेता श्रीवास्तव के मुताबिक यह गिरोह किशोरियों को लखनऊ लाने केबाद उनका सौदा करता है। सौदा करने के लिए कोई दाम तय नहीं होता है। पूछताछ में सामने आया कि किशोरियों को 50 हजार रुपये से एक लाख रुपये में बेचते हैं। इस गिरोह के पास से बरामद दो किशोरियों को भी बेचने की तैयारी थी। पुलिस केमुताबिक गिरोह के सदस्य सिर्फ लखनऊ में ही नहीं है। वह जहां सौदा तय हो जाता है । वहीं किशोरियों को लेकर चले जाते हैं।

From around the web

>