केजीएमयू में किया गया 13वां सफल जिगर प्रत्यारोपण

 

 केजीएमयू में बीते 12 नवंबर को किया गया लीवर ट्रांसप्लांट सफल हो गया है। केजीएमयू प्रवक्ता सुधीर सिंह ने कहा कि हमें यह बताते हुए खुशी हो रही है कि मरीज को मंगलवार को छुट्टी दे दी गई है। उन्होंने बताया कि आलमबाग निवासी 28 साल के व्यक्ति एडवांस स्टेज के लीवर सिरोसिस से पीड़ित था। उसके भाई ने मैच मिलने के बाद अपने लीवर का आधा हिस्सा दान कर दिया।

उन्होंने बताया कि एक सप्ताह बाद डोनर को छुट्टी दे दी गई थी। जबकि मरीज को 11 दिन बाद आज छुट्टी दी गई है। लिवर ट्रांसप्लांट सर्जरी वर्तमान समय में एक जटिल सर्जिकल प्रक्रिया है। इसमें केजीएमयू के करीब 100 से अधिक डॉक्टरों और कर्मचारियों की टीम ने काम किया है। बता दें कि केजीएमयू का यह 13वां सफल लीवर ट्रांसप्लांट है।

उन्होंने बताया कि केजीएमयू बहु-अंग दान करने वाला यूपी का एकमात्र संस्थान है, और एम्स नई दिल्ली और एआरएमवाई आर एंड आर अस्पताल नई दिल्ली आदि सहित अन्य संस्थानों के साथ केजीएमयू के सहयोग से 50 से अधिक अंगों को जरूरतमंद रोगियों में प्रत्यारोपित किया गया है।

प्रत्यारोपण टीम का नेतृत्व केजीएमयू के कुलपति एलटी ने किया। जनरल (डॉ.) बिपिनपुरी पीवीएसएम, वीएसएम (आरईटीडी।)। सर्जरी टीम का नेतृत्व गैस्ट्रोसर्जरी विभाग के डॉ. अभिजीत चंद्रा और डॉ. विवेक गुप्ता ने किया। अन्य महत्वपूर्ण सेवाएं डॉ. एस.एन. संखवार (सीएमएस), डॉ. तूलिका चंद्रा (रक्त आधान), डॉ. अमिता जैन (सूक्ष्म जीव विज्ञान), डॉ. नीरा कोहली (रेडियोलॉजी), डॉ. अविनाश अग्रवाल (क्रिटिकल केयर), डॉ. गौरव चौधरी द्वारा प्रदान की गईं।

From around the web