केजरीवाल का ऐलान इस दिन रवाना होगी वरिष्ठ नागरिकों को दिल्ली से अयोध्या ले जाने वाली पहली ट्रेन

 

 मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कहा कि तीर्थयात्रा के लिए वरिष्ठ नागरिकों को दिल्ली से अयोध्या ले जाने वाली पहली ट्रेन तीन दिसंबर को रवाना होगी।

केजरीवाल ने बुधवार को प्रेस वार्ता कर कहा कि रामलला के दर्शन के इच्छुक दिल्ली के बुजुर्ग अधिक से अधिक आवेदन करें। मुख्यमंत्री ने कहा कि रामलला के दर्शन के लिए तीन दिसंबर को पहली ट्रेन अयोध्या के लिए रवाना होगी। अयोध्या दर्शन के इच्छुक दिल्ली के लोग ई-डिस्ट्रिक्ट पोर्टल पर जाकर अपना पंजीकरण करा सकते हैं। तीर्थ यात्रियों की संख्या अधिक होने पर दिल्ली सरकार दूसरी ट्रेन लगायगी।

वहीं मुख्यमंत्री ने ईसाई भाइयों के लिये कहा कि दिल्ली सरकार बहुत जल्द वेलंकन्नी को भी तीर्थ यात्रा की सूची में शामिल करने जा रही है। जिसके बाद ईसाई भाई भी अपनी मर्जी के मुताबिक मुफ्त तीर्थ यात्रा कर सकेंगे।

आगे उन्होंने कहा कि हमारी ‘मुख्यमंत्री तीर्थ यात्रा’ योजना में शामिल 12 जगहों पर बुजुर्ग तीर्थ यात्रा करने जा सकते हैं। इन 12 जगहों में से कोई भी व्यक्ति किसी भी स्थान को चुन सकता है। इसमें हम पुरी, द्वारकाधीश, हरिद्वार, रामेश्वरम, शिरडी और अजमेर समेत कई जगह ले जा रहे हैं।

हमने ‘मुख्यमंत्री तीर्थ यात्रा’ योजना में अयोध्या को भी शामिल कर लिया। इस तीर्थ यात्रा योजना में दिल्ली का रहने वाला कोई भी बुजुर्ग इसका लाभ उठा सकता है। वह अपने साथ अटेंडेंट के तौर पर अपने घर के किसी एक युवा आदमी को भी लेकर जा सकता है। एक बुजुर्ग के साथ एक युवा व्यक्ति को जाने की अनुमति है। तीर्थ यात्रियों को एसी ट्रेन से लेकर जायेंगे व अच्छे एसी होटल में विश्राम करवायेंगे। वहां पर स्थानीय ट्रांसपोर्ट और खाना समेत सब खर्च दिल्ली सरकार का होगा। दिल्ली में अभी तक 36 हजार लोग इसका लाभ उठा चुके हैं।

मुख्यमंत्री ने बताया कि पहली ट्रेन तीन दिसंबर को जाएगी। उसके लिए पंजीकरण शुरू हो गए हैं। अयोध्या जाने के इच्छुक लोग हमारे दिल्ली सरकार के ‘ई-डिस्ट्रिक्ट पोर्टल’ पर जाकर पंजीकरण करा सकते हैं।

मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने आगे कहा कि अपने क्रिश्चियन (ईसाई) भाइयों की मांग थी कि इस लिस्ट में उनका कोई तीर्थ स्थान शामिल नहीं है। आज वह उन्हें भी एक अच्छी खबर दे रहे है। बहुत सारे ईसाई भाई वेलंकन्नी चर्च जाना चाहते हैं। दिल्ली सरकार बहुत जल्द ही वेलंकन्नी चर्च को भी तीर्थ यात्रा की सूची में शामिल करने जा रही हैं और अब ईसाई भी अपनी मर्जी के मुताबिक तीर्थ यात्रा पर जा सकेंगे।

From around the web