PM Modi In Germany: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जर्मनी यात्रा पर क्यों गए हैं, इसके बाद UAE भी जाएंगे

PM Modi In Germany: भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी रविवार को जर्मनी विजिट पर गए हैं. जहां जर्मनी के नागरिकों के साथ भारतीय मूल के लोगों ने उनका भव्य स्वागत किया। इस दौरान एक इंडियन-जर्मन दूल्हा-दुल्हन की जोड़ी ने भी पीएम के पैर छूकर उनका आशीर्वाद लिया। भारतीय पीएम के लिए जर्मनी में हुए भव्य स्वागत-सत्कार से ज़्यादा जरूरी उनकी जर्मनी यात्रा है. मोदी बहुत जरूरी काम से जर्मनी यात्रा में गए हैं.

पीएम मोदी जर्मनी क्यों गए, और उनकी यात्रा भारत के लिए कितनी महत्वपूर्ण है इसपर चर्चा करते हैं.

पीएम मोदी जर्मनी यात्रा पर क्यों गए हैं 

Why PM Modi Went Germany: दरअसल G-7 के 48 वें शिखर सम्मेलन की मेजबानी इस बार जर्मनी को मिली है. जर्मनी के म्यूनिख में  of G-7 Summit का आयोजन है. जो 26 जून से लेकर 28 जून तक चलेगा। 

भारत के लिए मोदी की जर्मनी यात्रा क्यों अहम है 

Why Modi’s Germany visit is important for India: प्रधानमंत्री का 2 दिवसीय जर्मनी दौरा है. जहां पीएम 12 से अधिक इंटरनेशनल नेताओं के साथ बैठक करेंगे और 15 से ज़्यादा कार्यक्रमों में हिस्सा लेंगे। G-7 48th Summit के बाद प्रधानमंत्री मोदी संयुक्त अरब अमीरात मतलब UAE के लिए निकल जाएंगे। 

मोदी की जर्मनी-यूएई यात्रा 

जर्मनी और UAE यात्रा में जाने से पहले ही मोदी ने कहा था कि वह शिखर सम्मेलन में भाग लेने वाले दूसरे देशों के नेताओं के साथ द्विपक्षीय बैठक करेंगे, जर्मनी के म्यूनिख में कम्युनिटी प्रोग्राम में भारतीय मूल के लोगों के साथ मुकालात करेंगे। उन्होंने कहा था कि मैं इस दौरान G-7 शिखर सम्मेलन के लिए जर्मनी के चांसलर ओलाफ स्कोल्ज के निमंत्रण पर जर्मनी के श्लॉस एल्मौ का दौरा करूंगा। 

G-7 में हिस्सा लेंगे मोदी 

G-7 की बैठक 26 से 28 जून तक चलने वाली है. इस बैठक में प्रमख रूप से क्लाइमेट, एनर्जी, हेल्थ और फूड सिक्योरिटी एंड जेंडर इक्वालिटी के अलावा यूक्रेन-रूस जंग, हिन्द प्रशांत क्षेत्र की स्थिति पर भारत के स्टैंड पर भी चर्चा होगी। 

G-7 समिट क्या है 

What is G-7 Summit: जी-7 समिट दुनिया के 7 सबसे अमीर देशों का एक ग्रुप है. जिसमे एक भारत भी है. इस बार What is G-7 48th Summit की अध्यक्षता जर्मनी कर रहा है. इस ग्रुप में ब्रिटेन, कनाडा, फ़्रांस, जर्मनी, इटली, जापान, अमेरिका शामिल है. इस बार बैठक के लिए भारत, अर्जेंटीना, इंडोनेशिया, सेनेगल और साऊथ अफ्रीका देशों के पीएम को भी बुलाया गया है. पीएम मोदी के साथ अमेरिकी राष्ट्रपति जो बिडेन, ब्रिटिश पीएम बोरिस जॉनसन, फ़्रांस प्रेसिडेंट एमैनुएल मैक्रो और कनाडियन पीएम जस्टिन त्रुदू सहित अन्य देशों के अध्यक्ष मौजूद रहेंगे।