pachmari chintan shivir government पचमढ़ी चिंतन शिविर एक्टिव मोड पर सरकार

भोपाल। पचमढ़ी की प्राकृतिक वादियों में चले चिंतन मंथन के बाद शिवराज सरकार ने जिस तरह से अप्रैल मई और जून के लिए विभिन्न प्रकार के कार्यक्रम जारी कर दिए हैं उससे ना केवल मुख्यमंत्री और मंत्रियों को भी एक्टिव मोड़ पर रहना पड़ेगा। मुख्यमंत्री ने भी मंत्रियों से प्रभार वाले जिलों में सक्रिय रहने और कार्यकर्ताओं एवं जनता से संवाद बढ़ाने को कहा है सो पूरी सरकार अब मिशन 2023 फतह करने के लिए एक्टिव मोड पर रहेगी।

दरअसल, राजधानी भोपाल से 200 किलोमीटर दूर पचमढ़ी में 25 से 27 तक मुख्यमंत्री और मंत्रियों ने जो चिंतन मंथन लंबे समय तक किया उसमें एक तरफ जहां सामाजिक सरोकारों से जुड़ी योजनाओं को मेकअप करके नए रूप में पेश किया जा रहा है। वहीं पूरी सरकार अब एक्टिव मोड पर रहेगी क्योंकि सभी ने सहमति और सुझाव देकर जिस तरह के कार्यक्रम तय किए हैं वे लगातार सक्रिय रहने के हैं। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान पत्रकारों से चर्चा करते हुए आगामी कार्यक्रमों के बारे में बताया जिसके अनुसार 30 मार्च को बुरहानपुर में जल जीवन मिशन के तहत पूरे जिले में पाइप लाइन जाने का काम हो चुका है। जिसका लोकार्पण किया जाएगा इसके बाद 7 अप्रैल को पूरे प्रदेश में उत्सव मनाया जाएगा।

वहीं 18 अप्रैल को मुख्यमंत्री और मंत्री एक साथ फ्रेंड बैठकर काशी विश्वनाथ के दर्शन करने वाराणसी जाएंगे। तीर्थ दर्शन योजना फिर से शुरू होने के बाद पहली रेल यात्रा होगी 21 अप्रैल को कन्या विवाह योजना रावण की जाएगी। जिसके तहत 51 हजार की राशि को बढ़ाकर 55000 कर दिया गया है वही 22 अप्रैल को शहरी क्षेत्रों में संजीवनी क्लीनिक होली जाएंगे। वहीं 2 मई को लाडली लक्ष्मी दिवस मनाया जाएगा जो 11 मई तक चलेगा वही मई के महीने में जिला स्तर पर स्वास्थ्य शिविर लगाए जाएंगे। जिसमें छोटी-मोटी बीमारियों जांच की जाएगी वही 13 जून से सी एम राईज स्कूलों में पढ़ाई शुरू की जाएगी।

कुल मिलाकर पचमढ़ी के प्राकृतिक एवं शांत वातावरण में मुख्यमंत्री और मंत्रियों ने जो विचार मंथन किया है उसको मूर्त रूप देने के लिए सक्रिय रहने का मंत्र कुछ यह कह कर दिया गया है यदि सभी सक्रिय रहेंगे तो 2023 में भारी बहुमत से सरकार में वापसी होगी। मुख्यमंत्री ने मंत्रियों से प्रभार के जिलों में प्रवास करने एवं कार्यकर्ताओं और आम जनता से संवाद बनाने एवं उनकी समस्याएं सुनने और सुलझाने जाने के लिए कहा है।

योजनाओ की ओर आकर्षित बनाकर चुनावी आगाज पचमढ़ी से

प्रदेश में भाजपा की सरकार बनने के बाद सामाजिक सरोकारो से जुड़ी जिन योजनाओ के कारण भाजपा लगातार सता में बनी आ रही है अब उन योजनाओ को ओर भी आकर्शित बनाकर पार्टी ने प्रदेश मे मिशन 2023 के लिए चुनावी आगाज कर दिया है। पचमढ़ी में जिस सिद्धांत से मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान मंत्रीयो के साथ चिंतन कर रहे है उससे चुनावी चिंताओ को तो दूर कर रहे है कांग्रेस के साथ-साथ आप पार्टी को स्पेश नही छोड़ रहे है। दरअसल भाजपा मिशन 2023 को फत्ह करने के लिए कोई कसर नही छोड़ना चाहती पार्टी जब 2018 में सत्ता से बाहर हुई थी तभी से चिंतन मनन पार्टी के रणनीतिकार कर रहे है कि आखिर किन कारणों से पार्टी सत्ता में आते आते पिछड गई उसमें एक कारण यह भी सामने आया था कि जिन सामाजिक सरोकारों से जुडी योजनाओं के लागू होने के बाद भाजपा की स्वीकारता प्रदेश में बनी थी उनमे से अधिकांश योजनाओं की चमक फिकी पडने लगी थी उन योजनाओं की ओर आकर्षित बनकर जनता के बीच जाया जाए इसके लिए ही गहन चिंतन मनन करने के लिए ही मुख्य मंत्री शिवराज सिंह चौहान मंत्रियों के साथ पचमढी के घने जंगलों में बैठक कर रहे है इसमें अनुशासन का विशेष ध्यान किया जा रहा है मसलन मंत्रियों को जिस ग्लेन व्यू ओर चंपक होटल में ठहराया गया है वहा उन्हे चाय ही उपलब्ध हो रही है नाश्ता, लंच ओर डिनर जंगल में बने बैठक स्थल पर ही किया जा रहा है। जिससे मंत्रियों और अधिकारियों का पूरा फोकस योजनाओं के सुधार पर बने।

बहरहाल 25 मार्च की रात 2 बजे पचमढी पहुचे मुख्य मंत्री और मंत्रियों को सुबह से ही तैयार होकर बैठक स्थल पहुचें मुख्य मंत्री ने योग किया और मंत्रियो के साथ वृक्षारोपण कर इसके बाद बैठकर जो सिलसिला शुरु हुआ वह रात 8 बजे तक चला केवल गृहमत्री नरोत्तम मिश्रा बैठक की जानकारी देने के लिए 6 बजे बाहर आए ओर आधे घंटे बाद बैठक स्थल पर चले गए पत्रकारों को जानकारी देते हुए नरोत्तम मिश्रा ने योजनाओं के नए रुप की जानकारी दी जिसमें तीर्थ दर्शन योजना को लेकर बताया कि यह योजना अप्रैल से शुरु होगी शुरुआत में मुख्य मंत्राी एवं मंत्री ट्रेन से वाराणसी जायेंगें नहरे गंगा स्नान एवं बाबा विश्वनाथ के दर्शन एवं कबीर आश्रम भी जाऐंगें इस योजना में अब ट्रेन के अलावा बसों से और जरुरी होगा तो हवाई जहाज से बुर्जुगों को तीथ दर्शन कराया जाएगा I

इसी तरह मुख्य मंत्री कन्या योजना में राशि बढानें पर भी मंत्री समूह की सहमति बनी है तथा इस योजना को और व्यवस्थित एवं पारदर्षी बनाने के भी सुझाव है। जिसमें पूरे वर्ष का कलेंण्डर बनाया जावेगा जिससे शादी के इच्छुक युवा युवती सुविधा से रजिशटेªशन करा सकें। यही नही जो समान खरीदा जाऐगा वह भी गुणवत्तापूर्ण होगा। इसके अलावा राशन की दुकानों को और उपयोगी बनाने का निर्णय हुआ है जिसमें राशन के अलावा किराने का जरुरी समान भी मिलेगा। खाद्यान वितरण प्रणाली को ओर भी पारदर्षक बनाया जाऐगा। इसी तरह सीएम राईज स्कूलों के बारें में महत्त्वपूर्ण निर्णय हुए है। जिसमंे स्कूलों को आधुनिक बनाया जायेगा जिसमें सभी सुविधा उपलब्ध रहेंगी यही नही आस-पास के बच्चों को स्कूल जाने के लिए बसों की व्यवस्था भी की जावेगी।

कुल मिलाकर शनिवार की शाम तक जिन योजनाओं का मंत्री समूह ने प्रजेन्टेशन किया है उनमें अमूल चूल सुधार किया गया है। जिससे 2023 के विधान सभा चुनाव के समय कांग्रेस और आप पार्टी के प्रिलिंथ को कोई स्पेस न रहे मसलन सीएम राईज स्कूलों के माध्यम से स्कूलों को प्राईवेट स्कूलों की तरह बनाया जा रहा है। क्योंकि आप पार्टी दिल्ली के स्कूलों की सुधार की कहानी अन्य राज्यों में सुनाकर समर्थन जुटा रही है पंजाब में सरकार बनने के बाद आप पार्टी की निगाहें हरियाणा, हिमाचल प्रदेश, मध्य प्रदेश, राजस्थान और दिल्ली पर है। जिन मध्य प्रदेश में तब तक स्कूलों की स्थिति दिल्ली से बहतर कर लेना चाहती है पार्टी।

जाहिर है मुख्य मंत्री शिवराज सिंह चौहान अनुशासन के साथ सामाजिक सरुकरारों से जुडी योजनाओं में मन माफिक सुधार करने के लिए कसरत कर रहे है। अतः इन योजनाओं के लाभार्थियों को चिन्हित करने की योजनाए हैं जैसा कि 2 मई को पूरे प्रदेश में लाडली लक्ष्मीयों को सम्मानित किया जायेगा पचमढी से योजनाओं का नया स्वरुप तो सामने आ ही रहा है शिवराज सिंह का फुल फार्म में भी नजर आ रहे है।