हजारों औरतों ने एक साथ यहाँ की थी जोहर

 

भारत के इतिहास में पन्ने रहस्य और कई आश्चर्यजनक घटनाओ से भरे हुए है. इन्टरनेट पर इतिहास खंगाले तो हमे अनेको कहानियाँ और किस्से ऐसे मिल जायेगे जिन्हें जानकार हर कोई दंग रह जाये. ऐसे में यदि बात करें ऐतिहासिक किलों की तो किलों से जुड़ा इतिहास बेहद चौंकाने वाला है.

भारत में सबसे ज्यादा किले या दुर्ग राजस्थान में हैं जिसमे Gagron Fort ( गागरोन किला ) काफी ख़ास है. बिना नींव के बना यह किला चारो ओर पानी से घिरा है. भारत की इस धरोहर Gagron Fort को वर्ल्ड हेरिटेज साईट में भी शामिल गया है. लेकिन Gagron Fort से जुडी घटना बेहद ही दर्दनाक और रोंगटे खड़े कर देने वाली है.


कई सौ साल पहले यहाँ के शासक अचलदास खीची अपनी सेना से कई गुना बड़ी सेना वाले मालवा शासक से युद्ध के दौरान हार गये थे. अचलदास खीची राजपूत परम्परा के अनुसार लड़ते हुए वीरगति को प्राप्त हुए. जिसके बाद यहाँ की सभी औरतों ने दुश्मनों से अपनी इज्जत बचाने के लिए एक साथ खुद को आग के हवाले कर दिया था. हजारों की तादाद में Gagron Fort में महिलाओं ने जोहर की थी.

इतना ही नहीं , गागरोंन किले से जुडा एक रहस्मयी तथ्य यह भी है की अचलदास की मौत के बाद उसके बिस्तर को किसी ने नहीं हटाया. अचलदास की वीरता से प्रभावित हो कर मालवा के शासक ने उसकी चीजों को ज्यों का त्यों ही रहने दिया साथ ही अचलदास के बिस्तर को प्रतिदिन साफ़ भी कराया जाता था.

मालवा के शासक के बाद Gagron Fort मुसलमानों के पास रहा लेकिन किसी ने भी इस बिस्तर को हटाने की हिम्मत नही की. अचलदास के बिस्तर से जुडी कहानी यह भी सामने आती है की उसकी मौत के बाद भी उसके कमरे से काफी समय तक हुक्का पीने की आवाजे आती थी तथा प्रतिदिन बिस्तर पर 5 रूपये भी उस व्यक्ति को मिलते थे जो उसे साफ़ करता था. लेकिन जिस दिन बिस्तर साफ़ करने वाले व्यक्ति ने यह बात दूसरों को बताई तब से बिस्तर पर 5 रूपये रखे मिलना बंद हो गये.

अचलदास के बिस्तर को 1950 तक किसी ने हाथ नहीं लगाया. यूनेस्को वर्ल्ड हेरिटेज में शामिल Gagron Fort आज राजस्थान के बेहतरीन पिकनिक स्पॉट्स में माना जाता है जहां हर महीने हजारों लोग छुट्टियाँ बिताने आते है.

From around the web