विचित्रा माता का मंदिर,जहां पर लगता है विशाल मेला,जानिए खासियत

 
 हमारे भारत देश में कई सारे मंदिर है जो अपने चमक्तार व रहस्य के लिए जाने जाते है। वैसे भी भारत का आस्था का देश कहा जाता है। क्योंकि यहां पर हर शहर कस्बे व गांव में कई सारे मंदिर मिल जाते है जो लोगों की आस्था का कैंद्र रहते है।आज हम आपको एक ऐसे ही मंदिर के बारे में बताने जा रहे है जहां पर आने से इंसान की हर मनोकामना पुर्ण हो जाती है। आपकी जानकारी के लिए बता दें कि हम बात कर रहे है विचित्रा देवी के विशाल मंदिर की। जो अलीगढ़-अनूपशहर नेशनल हाईवे-93 से दो किमी पश्चिम दिशा में गांव चौढ़ेरा में स्थित है।यहां पर हर साल एक 9 दिन के मैले का आयोजन किया जाता है। जिसमें सैकड़ों हजारों की संख्या में लोग आते है। मिली जानकारी के मुताबिक मंदिर प्रागंण लगभग तीन बीघा में फैला हुआ है। बताया जाता है कि मां विचित्रा देवी के मंदिर की पूजा के साथ-साथ बाबा हाथिमान की भी पूजा करना जरूरी होती है।नवरात्र में प्रत्येक दिन माता रानी का श्रृंगार किया जाता।  देवी के मंदिर के पीछे के हिस्से को हाथीमान के नाम से भी जाना जाता है। मां के मंदिर के बाहर सीधे हाथ की तरफ एक हवनकुंड बना हुआ है। मां के दर्शन के बाद यादि श्रद्धालु हवनकुंड में सामग्री आदि चढ़ाता हैतो उसके मातारानी के दर्शन वास्तविक रूप में पूरे माने जाते है। कहां जाता है कि यहां से श्रद्धालु कभी भी खाली हाथ नहीं लौटा। मंदिर में केवल मातारानी की ही प्रतिमा स्थापित है।

From around the web

>