इस गाँव में रात को गायब हो जाती हैं लोगों की उंगलियां, सच्चाई जानेंगे तो उड़ जाएंगे होश

 
कोरोना संकट के चलते काफी तादाद में प्रदेश के प्रवासी मजदूर हाल ही में कुछ महीनों में अपने-अपने गांवों में लौटे हैं। अगर बात करे कोरोना वायरस की तो मध्यप्रदेश में सोमवार तक कोरोना वायरस संक्रमण के 2,310 नए मामले सामने आए।OMG!! इस गाँव में रात को गायब हो जाती हैं लोगों की उंगलियां, क्यों?? - News  One Indiaइसके साथ ही प्रदेश में इस वायरस से अब तक संक्रमित पाये गये लोगों की संख्या 1,22,209 तक पहुंच गयी. राज्य में पिछले 24 घंटों में इस बीमारी से 26 और व्यक्तियों की मौत हुई है जिससे इस महामारी से मरने वालों की संख्या 2,207 हो गयी है।अजब गज़ब! इस गाँव में कैसे रात को गायब हो जाती हैं लोगों की 'उंगलियां' -  Taaza Khojलेकिन इस बीच मध्य प्रदेश के एक गांव की फोटोज सोशल मीडिया पर काफी वायरल हो रही है। आपकी जानकारी के लिए बता दें कि हम बात कर रहे है मध्य प्रदेश के हमूखेडी गांव की जहां पर रात में लोगों की उंगलिया ही गायब हो जाती है। इस गांव की आबादी 250 है वहीं ज्यादा लोगों की उम्र 50 से ऊपर है।यहां के ज्यादातर कुष्ठ रोग से पीडित है। इसी कारण लोगो के शऱीर के कई हिस्से सुन पड़ गया है। जिससे उन्हें यदि सुई भी चुभाई जाए तो उन्हें पता नहीं चलता है। इसी कारण यहां के लोगों के हाथों पैरों की उंगलिया तो जंगली चुए खा जाते है और इनको कुछ पता भी नहीं चलता है।यहां आदमखोर हुए चूहे, सुबह गायब मिलती हैं किसी की उंगलियां तो किसी का पंजा  | ujjain - News in Hindi - हिंदी न्यूज़, समाचार, लेटेस्ट-ब्रेकिंग न्यूज़ इन  ...इसी गांव में 80 साल की मांगूबाई कुष्ठ रोग से पीड़ित है। एक दिन मांगूबाई जब सुबह उठी तो उसके दाएं पैर की दो अंगुलियां नहीं थीं। पैर के घाव पर मक्खियां भिनभिना रही थीं। धीरे-धीरे उसके हाथ-पैर में जख्म बढ़ते गए और मांस गायब होता रहा।

From around the web

>