अब गर्भनिरोधक गोलियां नहीं बल्कि इस स्मार्ट एप्प से होगा गर्भनिरोध, जाने एप्प के बारे में
 

 

यूँ तो एक महिला के लिए माँ बनना बहुत गर्व की बात है, लेकिन कई बार स्थिति ऐसी होती है, जहाँ कुछ महिलाएं माँ नहीं बनना चाहती. ऐसे में वो प्रेग्नेंट न हो सके, इसके लिए वो कई तरह के उपाय आजमाती है. ऐसे में गर्भनिरोधक गोलियों से लेकर कंडोम तक हर रास्ता अपनाया जाता है. मगर एक तरफ जहाँ पुरुष ज्यादा समय तक कंडोम का इस्तेमाल नहीं करना चाहते, वही दूसरी तरफ महिलाओ के लिए भी गर्भनिरोधक गोलियों का ज्यादा इस्तेमाल करना काफी हानिकारक होता है. बरहलाल आपकी जानकारी के लिए बता दे कि अब महिलाओ की इस मुश्किल का लाजवाब हल भी निकल गया है. जिसके चलते महिलाओ को दवाईयों के चक्कर में नहीं पड़ना पडेगा.

वैसे हम जानते है कि इस दिलचस्प विकल्प के बारे में आप भी जानना चाहते होंगे, तो चलिए आपको बताते है कि वो विकल्प क्या है. आपको जान कर ताज्जुब होगा कि वो विकल्प कुछ और नहीं बल्कि स्मार्टफोन एप्प है. जी हां यानि अब आपके फोन पर ही अनचाही प्रेगनेंसी से बचने का उपाय आपको मिल जाएगा. यहाँ सबसे अच्छी बात ये है कि कुछ एप्स तो ऐसे है जो आपके शरीर के तापमान, पीरियड्स, और ओव्यूलेशन को कैलकुलेट करके आपको ये बता देता है, कि कब हाई टाइम है और कब आपको बर्थ कण्ट्रोल का इस्तेमाल करना चाहिए.

अगर हम सीधे शब्दों में कहे तो ये एप्प आपको ये बताता है कि कब आपके प्रेग्नेंट होने के चांस सबसे ज्यादा है और कब आपके लिए सेक्स करना सबसे ज्यादा सुरक्षित है. इसलिए अगर आप भी ऐसी कोई एप्प डाउनलोड करना चाहती है, तो आपके पास कई विकल्प मौजूद है. जैसे कि नेचुरल साइकिल एप्प, ग्लो, एसोप फर्टिलिटी क्लॉक आदि एप्प इसमें शामिल है. गौरतलब है कि ये एप्प आपके शरीर का इस्तेमाल करके आपके पीरियड्स साइकिल का आंकलन करते है. जिसके आधार पर आपको ये पता चल सकता है कि कब आपको बिना किसी सुरक्षा के सेक्स नहीं करना चाहिए और कब आपके लिए सेक्स करना सुरक्षित रहेगा.

इस एप्प को इस्तेमाल करने के लिए सबसे पहले आपको सुबह उठ कर अपने शरीर का तापमान चेक करना होता है और फिर इसे एप्प में फीड करना होता है. बस इसके बाद आपका काम खत्म हो जाएगा और बाकी काम एप्प खुद करेगा. बता दे कि इस कॉन्ट्रासेप्टिव को यूरोप में मंजूरी मिल चुकी है. दरअसल इसमें लाल रंग के द्वारा वो दिन दिखाए जाते है, जब आपके हाई टाइम होता है. ऐसे में या तो आपको सेक्स नहीं करना चाहिए या फिर कॉन्डोम का इस्तेमाल करना चाहिए. आपको जान कर हैरानी होगी कि इस एप्प का इस्तेमाल तीन लाख से भी ज्यादा महिलाएं करती है. इनमे से केवल सात प्रतिशत महिलाएं ही प्रेग्नेंट हुई है. वही कुछ लोगो का कहना है कि ये एप्प पीरियड्स का सही अनुमान नहीं लगा पाता, जिसके चलते इस पर आँखे बंद करके भरोसा करना भी सही नहीं होगा.

बरहलाल हम तो यही कहेगे कि इस एप्प से आपको फायदा ज्यादा और नुकसान कम होगा. इसलिए अब ये आपको तय करना है कि आपको इस एप्प का इस्तेमाल करना है या नहीं.

From around the web