भगवान राम ने इस जगह से ही श्रीलंका पर की थी चढाई,आज पड़ी है विरान

 
हमारे देश में आत्माओं को अस्तित्व प्राचीन समय से ही चलता आ रहा है। इसी कारण यहां पर हर जगह भूतिया नाम से घोषित की गई है। हालांकि अब ये जगह सिर्फ लोगों के लिए एक घुमने की जगह बन गई है। लोगों को घुमने फिरने का शौक होता है ऐसे लोग नई जगहों के बारे में पता लगाते रहते है।dhanushkodi-1 - Stress Busterभारत समेत समस्त विश्व में कई ऐसे स्थान हैं, जिनका हिन्दू धर्म से बेहद गहरा रिश्ता रहा है। इन्हीं स्थानों में से एक है धनुषकोटि, जिसका रामायण काल से बहुत गहरा संबंध है। आज हम आपको इसी  जगह के बारे में बताने जा रहे है जहां पर भगवान राम ने अपनी सेना व हनुमान जी के साथ निवास किया था।16-14-59-Dhanushkodi-1 - Stress Busterलेकिन अब साम होते ही ये जगह विरान हो जाती है। आपकी जानकारी के लिए बता दें कि हम बात कर रहे है धनुषकोड़ी की जो तमिलनाड़ु के पूर्वी तट के रामेश्वरम द्वीप पर स्थित है। इस जगह पर खड़े होकर आप श्री लंका को देख सकते है। दिन में तो यहां पर पर्यटक आते रहते है लेकिन शाम का अंधेरा छाते ही ये जगह भूतिया बन डजाती है।trell.community 's top picks. Dhanushkodi, Tamil Nadu. Photo bye  @nattysingh | Andaman and nicobar islands, India vacation, Adventure tourismजलसंधि में बालू के टीले पर सिर्फ 50 गज की लंबाई पर है और यह विश्व के सबसे छोटे स्थानों में से एक है। क्योंकि रामेश्वर से धनुषकोड़ी के बीच की दूरी 15 किलोमीटर है जो बेदह ही डरावना है। इतिहासकारों के अनुसार 1964 से पहले ये एक तीर्थ स्थल था और यहां पर रेल्वे स्टेशन सही अस्पताल व चर्च पोस्ट ऑफिस तक था।dhanushkodi_1568130727-696x470 - Stress Busterलेकिन यहां पर 1964 में आए चक्रवात ने सब नष्ट कर दिया। 100 से अधिक यात्रियों वाली रेलगाड़ी समुद्र में डूब गई थी उसके बाद से यह जगह बिल्कुल सुनसान हो गई थी।

From around the web

>