इस पत्थर को उठाकर काली मां ने किया था इस राक्षक का वध, आज बना हुआ है रहस्य

 

कहते है कि भारत आस्था का देश है। क्योंकि यहां पर धार्मिक स्थानों की कोई कमी नहीं है जो अपने चमत्कार के लिए जाने जाते है। आज भी भारत में कई ऐसे मंदिर स्थापित है जो सिर्फ रहस्य के लिए जाने जाते है। यहा के हर स्थान की एक अलग विशेषता है। इसीलिय तो भारत को रहस्यों की भूमि कहा जाता है।

 दुनिया में कई चीजे ऐसी है जिन पर प्रकृकि का ही राज चलता है।आज हम आपको एक ऐसी चीज के बारे में बताने जा रहे है जो तमाम गुरूत्वाकर्षण के नियमों को फेल करता नजर आता है। आज तक इसके बारे में कोई नहीं समझ पाया है। आपकी जानकारी के लिए बता दें कि हम बात कर रहे है एक साधारण पत्थर की जो बेहद चमत्कारी है। बता दें कि ये पत्थर उत्तराखंड के फितोरागढ़ में मोस्टा मानों मंदिर में स्थित है। 

हैरान कर देने वाली बात है कि इस पत्थर को उठाने में बड़े बड़े पहलानों ने भी अपने घुटने टेक दिए है। कहते है कि जो भी इस पत्थर को भगवान शंकर का नाम लेकर उठाता है तो इसको उठाने में सफल हो जाता है। इतना ही नहीं अगर कोई शख्स इस पत्थर को उठाकर कंधे पर रख लेता है तो उसका भाग्य बदल जाता है। ऐसी मान्यता है कि इसी पत्थर से चंडाक वन ही चंड-मुंड का वध किया गया था।किदवंतियों के अनुसार मां काली को चुनौती देने के लिए बलशाली राक्षस ने चंड मुंड को उसके पास भेजा था।इसके गुस्सा होकर मां काली ने चामुंदा का अवतार लेकर राक्षस का वध कर दिया था।

From around the web

>