इंटरव्‍यू में लड़‍की से पूछा गया ऐसा सवाल, 10 रूपये में ऐसी क्या चीज खरीदोगे कि उससे आपका पूरा कमरा भर जाये
 

 

कई बार कुछ लोगों के साथ ऐसा होता है कि वो इंटरव्यू के नाम से ही डर जाते हैं क्‍योंकि इंटरव्‍यू एक ऐसी प्रक्रिया होती है जिसके द्वारा व्‍यक्ति की मानसिक स्थिती या फिर कह लें तो आइक्‍यू लेवल का पता लगाया जा सकता है लेकिन ये प्रक्रिया उतनी ही कठिन होती है इसलिए व्‍यक्ति इससे डर जाता है। आप किसी भी जगह परीक्षा देने जाते होंगे तो आपको परीक्षा पास करने में समस्‍या नहीं आती होगी लेकिन इंटरव्‍यू में आपको काफी कुछ झेलना पड़ता होगा क्योंकि लिखकर के जवाब दे देना बड़ा ही आसान होता है लेकिन जब बात फेस टू फेस करने की आती है और हाजिरजवाबी की आती है तो अधिकतर लोगों की हवा निकल ही जाती है।

ये सवाल उनलोगों के लिए एक चैलेंज जैसा है जिन्हें ये लगता है कि उनका दिमाग औरों से ज्यादा तेज चलता है? ऐसे लोग जो ये सोचते हैं कि उनका आईक्यू बाकियों से कही ज्यादा है? तो इस लड़की से पूछे गए इन सवालों का जवाब देकर देखिए, आपके समझ से आ जाएगा कि क्या आप वाकई में तेज दिमाग के हैं या ये सिर्फ आपका एक वहम है।

आपको बता दें कि कुछ सवाल आपके दिमाग का दही भी कर सकते हैं और उनके जवाब भी। आज हम आपको कुछ ऐसे सवालों के बारे में बताने है रहे हैं जो एक लड़की से एक आईएएस के इंटव्यू के दौरान पूछे गए थे। आपको तो पता होगा कि इंटरव्‍यू के सवाल काफी सीधे सादे और सिमपल से होते है जिनके जवाब कोई भी कम नॉलेज वाला व्‍यक्ति नहीं दे सकता है। तो आइए जानते हैं कुछ ऐसे ही सवालों के बारे में जिनके बारे में जानकर के आपको थोडा ज्ञान भी मिलेगा ही मिलेगा।


पहला सवाल
एक पक्षी के सामने एक मिठाई रखी है, एक नीम्बू रखा है और एक मिर्च रखी है तो आपको बताना है कि पक्षी को इन सबमे से सबसे ज्यादा टेस्टी क्या लगेगा?

जवाब: एक पक्षी के लिए स्वाद लेने के लिए न तो जवाब होती है और न ही स्वाद ग्रंथियां होती है तो ऐसे में उसके लिए तो सभी स्वाद भी के जैसे ही होंगे।

दूसरा सवाल
अगर आपके पास महज दस रूपये ही है है और आपको उस दस रूपये में ऐसा कुछ खरीदना है जिससे पूरा कमरा ही भर जाए।

जवाब: माचिस और मोमबत्ती क्योंकि इससे होने वाले प्रकाश के उजाले से आपका पूरा का पूरा कमरा ही भर जाएगा और जो शर्त थी वो भी पूरी हो जायेगी।

तिसरा सवाल
एक कछुआ औसतन कितनी उम्र तक जी सकता है?

जवाब: 200 से 300 साल, शायद उनके चलने की स्पीड जितनी धीमी है उतनी ही उनकी जीने की भी स्पीड है जिसे वो धीरे धीरे जीता है।

From around the web