इस दिन एक दूसरे से दूर रहना चाहिए पति-पत्नी को वरना पैदा हो सकते हैं किन्नर
 

 

हिन्दू धर्मशास्त्र में इंसानों के जन्म मृत्यु से जुड़े ऐसे बहुत सारे रहस्य है जिनपर से शायद ही कभी पर्दा उठ पाए लेकिन आज हम आपको जो बताने जा रहे हैं उसके बारे में जानकर आप थोड़े सचेत जरूर हो सकते हैं। आपको जानकर हैरानी होगी की हमारे शास्त्रों में एक गर्भ शास्त्र भी है जिसमे ये तक बताया गया है की पति पत्नी को किस वक़्त एक दूसरे के साथ होने से सूंदर और स्वस्थ्य अच्छे पैदा आते हैं और किस वक़्त साथ होने से उनके बच्चे किन्नर पैदा हो सकते हैं। आज हम आपको इसी विशेष गर्भपुराण के बारे में कुछ मूल बातें बताने जा रहे हैं जिसके बारे में जानना आपके लिए भी बेहद जरूरी है अन्यथा हो सकता है भाड़ी नुकसान।

इस समय संभोग करने से पैदा हो सकते हैं किन्नर


आपको बता दें की गर्भ पुराण में बहुत सी ऐसी बातें कही गयी हैं जिसके बारे में अगर आप भी जान लें तो आपको कभी भी संतान सुख से ना तो वंचित रहना पड़ेगा और ना ही आपका संतान किसी त्रुटि के साथ पैदा होगा। गर्भ पुराण में ऐसा कहा गया है की एक समय ऐसा भी होता है जब अगर पति पत्नी संभोग करें तो उनके बच्चे किन्नर पैदा हो सकते हैं। इसके अनुसार नौ महीनों तक जब शिशु माँ के गर्भ में पल रहा होता है तो उस दौरान होने वाली सभी घटनाओं और परिवेशों का शिशु पर प्रभाव पड़ता है।

इन्हीं परिवेशों के बारे में गर्भ पुराण में बताया गया है की किस प्रकार गर्भ में ही किन्नर पैदा लेते हैं और ऐसा क्या होता है की माँ के गर्भ में ही शिशु किन्नर के रूप में परिवर्तित हो जाता है। गर्भ पुराण के अनुसार पति पत्नी के किसी विशेष दिन शारीरिक संबंध बनाने से शिशु किन्नर के रूप में पैदा होते हैं। इसमें कुछ ऐसे दिनों का उल्लेख किया गया है जिस दिन पति पत्नी को एक दूसरे के निकट नहीं आना चाहिए अन्यथा उनके बच्चे किन्नर के रूप में इस दुनिया में आ सकते हैं।

इन दिनों पति पत्नी को रहना चाहिए एक दूसरे से दूर


गर्भ पुराण के असनुसार पति पत्नी को विशेष रूप मंगलवार के दिन एक दूसरे के साथ संबंध नहीं बनाना चहिये। गर्भ पुराण के अनुसार ऐसा माना जाता है की अगर कोई स्त्री मंगलवार के दिन गर्भधारण करती है तो उसका बच्चा बहुत ही क्रोधी स्वभाव का और घमंडी पैदा होता है। ऐसा माना जाता है की मंगलवार का दिन मंगल ग्रह का होता है और इस दिन पैदा होने वाले बच्चों के ऊपर मंगलग्रह का प्रभाव होता है जिस कारन वो बेहद घमंडी और किसी की बात ना सुनने वाले होता हैं।

इसके अलावा शनिवार के दिन को भी पति पत्नी के साथ आने को शुभ नहीं माना जाता है, ऐसा इसलिए है क्यूंकि शनिग्रह बहुत ही क्रूर और कठोर ग्रह की श्रेणी में आता है इसलिए संतान पैदा करने के दृश्टिकोण से इस दिन पति पत्नी को विशेष रूप से एक दूसरे के साथ संबंध नहीं बनाना चहिये। इसके अलावा ऐसा भी माना जाता है की शनिवार को पैदा होने वाले बच्चों में हमेशा निराशा की भावना होती है और वो काफी दुष्ट स्वभाव के एवं नकारात्मक सोच रखने वाले होते हैं।

From around the web