21वी सदी में आने के बाद भी लोग इन बेहूदा तरीको से गर्भ में पल रहे शिशु का लिंग पता करते हैं
 

 

आज का जमाना है 21वीं सदी का हो गया है और लोग अपने आप को मॉर्डन भी मानते हैं। ऐसे में जब कोई घर में कोई स्त्री गर्भवती होती है तो लोग सबसे पहले यही दुआ मांगते हैं कि उसको लड़का हो। क्योंकि वह सोचते हैं कि एक बार बस लड़का हो जाए उसके बाद लड़की को कोई परेशानी नहीं है। अगर उसी में पहले लड़की हो जाती है तो लोगों को बहुत बुरा लगता है और कई तरह के ताने भी मारते हैं। हालांकि कुछ लोग ऐसे भी होते हैं जो उस पैदा हुई लड़की को कूड़ा करकट में फेंक देते हैं और उनके मन में जरा सी भी दया नहीं आती है। उस बच्चे का क्या होगा।

आपको जानकर हैरानी होगी कि जहां भारत में लड़का पैदा करने के लिए कई तरह के टोटके किए जाते हैं वही विदेशों में गर्भ में क्या पल रहा है वह तीसरे महीने में ही बता दिया जाता है। क्योंकि वहां पर यह सब चीजें बिल्कुल भी नहीं होती है कि गर्भ में पल रही लड़की को मार दिया जाए। इसलिए वहां पर पहले ही लिंग को बता दिया जाता है। यहां पर कई तरह के मेथड अपनाकर लोग गर्भ में पल रहे बच्चे का लिंग जान जाते हैं। जैसे की अल्ट्रासाउंड करवाना इसे उन्हें पता चल जाता है कि गर्भ में कौनसा शिशु पल रहा है। वहीं कुछ लोग चाइनीस तरीके से जो पूर्वज औरतें या पुरुष होते हैं वह अपने देसी नुस्खों से पता लगा लेते हैं कि गर्भ में क्या पल रहा है। अगर आज हम आपको कुछ ऐसे ही मेथड बताएं और जब आप उनको पढ़ेंगे तो आपको लगेगा इसका लिंग के साथ कोई लेना देना नहीं है फिर भी लोग ऐसे कैसे लिंग का पता करते हैं।

मकड़ी का जाला

चलिए सबसे पहले हम बताते हैं हंगरी में एक मेथड की। जो बहुत ही ज्यादा प्रचलित हैं जिससे पता लगाया जाता है कि गर्भवती स्त्री के गर्भ में कौन पल रहा है। उसके हिसाब से सबसे पहले घर में जो भी मकड़ी का जाला लगता है उस में गर्भवती स्त्री उंगली से छेद करती है। अगर वह मकड़ी का जाला ठीक करने के लिए मकड़ी वापस आती है। तो इसका मतलब है कि लड़का होगा। अगर वह वापस नहीं आती है तो लड़की होगी। अब आप ही बताइए इसका लिंग से क्या लेना-देना है।

मां के बाल
चलिए अब दूसरा नुस्खा आपको बताते हैं। कुछ लोग कहते हैं कि जब गर्भवती स्त्री के गर्भ में लड़की पल रही है तो मां के पैरों के बाल बहुत तेजी से ग्रोथ करते हैं और अगर लड़का पल रहा है तो मां के पैरों के बाल ग्रोथ नहीं करते हैं। अब आप ही बताइए जब हारमोंस का मां के पैरों के बालों के साथ कोई लेना देना ही नहीं है तो लिंग का कैसे हो सकता है।

पुतली पर डॉट्स

अब हम आपको नुस्खा जो बता रहे हैं वह ग्रीज के डॉक्टर ने साबित किया था। वह कहते हैं कि अगर गर्भवती महिला की आंख पर लाइट मारी जाए और उसके पुतली के नीचे एक डॉट दिखाई दे, तो इसका मतलब लड़का है। अगर दो डॉट दिखाई देते हैं तो लड़की होगी। अब आप बताइए कि यह कैसा लॉजिक है।

बच्चे की पॉटी

अब आपको एक पुरानी चाइनीस मेडिटेशन के बारे में बताते हैं। उनके हिसाब से गर्भवती महिला की गोद में एक ऐसा लड़का दिया जाता है जिसके अभी दांत भी नहीं आए होते हैं। जब वह महिला उस लड़के को गोद में लेकर बैठी है। तो उसे इंतजार करना पड़ता है कि वह बच्चा पोटी करे। जैसे ही वह बच्चा पोटी करता है और अगर पॉटी हरे रंग का होता है तो गर्भवती महिला के पेट में पल रहा बच्चा लड़की होगी। अगर सामान्य रंग की पॉटी होती है तो गर्भवती महिला के पेट में पल रहा बच्चा लड़का होगा।

From around the web