आखिर क्यों दिन को ही किया जाता हैं पोस्टमार्टम, रात को नहीं, वजह जानकर आप भी चौंक जाएंगे

 

आपने अक्सर देखा होगा कि जब भी कोई दुर्घटना या आत्महत्या का मामला होता है, तो पुलिस द्वारा पोस्टमॉर्टम प्रक्रिया की अपील की जाती है ताकि लाश की जांच करके मौत के सही कारण का पता लगाया जा सके। इसके लिए, मृतक के परिवार के सदस्यों की सहमति मांगी जाती है। लेकिन क्या आप जानते हैं कि पोस्टमॉर्टम सूर्योदय और सूर्यास्त के बीच किया जाता है यानी दिन के दौरान, रात में नहीं। ऐसा क्यों किया जाता है? आइए आज हम आपको बताते हैं इसके पीछे का अनोखा और चौंकाने वाला कारण।

प्राप्त जानकारी के अनुसार, पोस्टमॉर्टम व्यक्ति की मृत्यु के बाद छह से 10 घंटे के भीतर किया जाता है, क्योंकि अधिक समय के बाद, लाशों में प्राकृतिक परिवर्तन जैसे कि ऐंठन और पोस्टमॉर्टम के सूर्योदय का समय होता है।

बता दें कि इसके पीछे का कारण यह है कि रात के समय ट्यूब लाइट या एलईडी की कृत्रिम रोशनी में चोट का रंग लाल की बजाय बैंगनी दिखाई देता है और फोरेंसिक विज्ञान में बैंगनी चोट का कोई उल्लेख नहीं है। एक धार्मिक कारण यह है कि कई धर्मों में रात में अंतिम संस्कार नहीं किया जाता है, इसलिए कई लोग रात में मृतक का पोस्टमार्टम नहीं करते हैं।

From around the web

>