एक ऐसी जगह जहां पर बांस का इस्तेमाल केवल पुजा के लिए किया जाता है

 
आज हम आपको एक ऐसी जगह के बारे में बताने जा रहे है जहां पर बांस का इस्तेमाल सिर्फ पूजा के लिए किया जाता है। आपकी जानकारी के लिए बता दें कि हम बात कर रहे है  अबूझमाड़ के ताड़ोनार पंचायत के गांव करेड़कानार के करीब एक एकड़ के बांस के वन को इतना पवित्र माना जाता है।यहां से बास्ता और मशरुम तक नहीं ले जाया जाता है। इस वन के बांस केवल देवों की पूजा में इस्तेमाल के लिए होते है। कोड़कानार के बुजुर्ग सोमारु कोर्राम बताते है कि उनके पैदा होने के पहले से इस वन के बांस का इस्तेमाल करने की वर्जना है।गांव के लोग बताते है कि इसके लिए एक बण्डा होता है।बांस काटने के बाद उसे एक कपड़े से लपेट दिया जाता है। इस बण्डे का उपयोग सिर्फ इस ‘पवित्र’ वन से बांस काटने के लिए होता है। गंगदेर कवाची का कहना है कि अब तक इस स्थान से किसी ने बांस की चोरी नहीं की है और न ही किसी ने घरेलू इस्तेमाल के लिए बांस लिया है।ग्रामीण बुदरु मंडावी बताते है कि नेडऩार में पाण्डलिया देव, ताड़ोनार में उदूमकवार व कोड़कानार में कण्डामुदिया देव के मंदिर है। इन देवों के लाट के लए यहां से बांस ले जाया जाता है। यहां सिर्फ गायता यानी पुजारी को ही बांस काटने का हक है और वह भी देव लाट के लिए। उनका मानना है कि जो यहां से बांस ले जाता है उसके साथ अनहोनी होती है। यही वजह है कि यहां से न तो बास्ता निकाला जाता है और न ही मशरुम तोड़ा जाता है।

From around the web

>