ISIS के संदिग्ध आतंकी ने कहा- प्रताड़ित करने के साथ ही ‘जय श्री राम’ कहने को करते हैं मजबूर

 

आत्मघाती हमले और सीरियल बम ब्लास्ट की साजिश के आरोप में जेल में बंद एक संदिग्ध में बड़ा आरोप लगाया है. संदिग्ध का कहना है कि तिहाड़ जेल में कुछ कैदियों ने उसकी पिटाई की है और उसे जय श्री राम का नारा लगाने के लिए मजबूर किया गया है. अब ISIS के संदिग्ध आतंकी के वकील ने इस मामले को लेकर अदालत का दरवाजा खटखटाया है. बता दें कि आरोप लगाने वाला संदिग्ध आतंकी रशीद जाफर है जिसे 2018 में गिरफ्तार किया गया था. राशिद पर आत्मघाती हमलों और सिलसिलेवार विस्फोटों की साजिश रचने के आरोप लगाए गए हैं. हालांकि अभी तक उस पर किसी भी प्रकार के आरोप सिद्ध नहीं हुए हैं इसीलिए उसे अभी भी संदिग्ध कहा जा रहा है.

पिता को फोन कर दी जानकारी

राशिद ने जेल में उसके साथ हुई प्रताड़ना की जानकारी पिता को फोन कर दी. उसने पिता को कहा कि कुछ कह दी मुझे जबरन परेशान कर रहे हैं और मुझे आतंकवादी साबित करने में तुले हुए हैं. इतना ही नहीं राशिद का कहना है कि जेल के भी कुछ अधिकारी उन कैदियों के साथ उसे प्रताड़ित करते हैं. राशिद का आरोप है कि वह लोग रोज उससे जय श्री राम का नारा लगाते हैं और जब तक यह नारा नहीं लगाओ तब तक उसे प्रताड़नाएं दी जाती है. पिता को फोन पर जानकारी देने के बाद राशिद के वकील ने इस संबंध में कोर्ट में याचिका दायर की है.

अभी तक नहीं हुआ है अपराध सिद्ध वकील

राशिद के वकील एमएस खान ने याचिका दायर करने के बाद मीडिया से रूबरू होते हुए कहा कि इस तरह की घटनाएं निंदनीय है. उन्होंने कहा कि मेरे क्लाइंट पर अब तक किसी भी प्रकार का कोई आरोप सिद्ध नहीं हो सका है ऐसे में उसे आतंकवादी कहना गलत है. वकील खान का कहना है कि जेल में यदि उनके साथ कोई दुर्व्यवहार किया जा रहा है तो यह उनके अधिकारों का हनन है जिसके लिए हमने कोर्ट का दरवाजा खटखटाया है और उम्मीद है कि हमें न्याय मिलेगा.

From around the web

>