बीकानेर में भूकंप के तेज़ झटके, रिक्टर स्केल पर तीव्रता रही 5.3

 

राजस्थान के बीकानेर जिले में बुधवार सुबह भूकंप के झटके महसूस किए गए। अभी जान-माल के किसी नुकसान की सूचना नहीं है। मौसम केंद्र जयपुर के अनुसार, बुधवार तड़के पांच बजकर 24 मिनट पर आए भूकंप की तीव्रता रिक्टर पैमाने पर 5.3 मापी गई।

भूकंप का केंद्र जमीन से नीचे 110 किलोमीटर की गहराई में था। जिला प्रशासन के अनुसार, इस दौरान अधिकतर लोग सो रहे थे इसलिए किसी तरह की अफरा तफरी का माहौल नहीं बना। भूकंप से कोई हताहत नहीं हुआ है।

सुबह लगभग साढे पांच बजे आया भूंकप
नेशनल सेंटर फॉर सिस्मोलॉजी (National Centre for Seismology) ने बताया कि बीकानेर में भूकंप के ये झटके सुबह 5:24 बजे महसूस किए गए। वहीं भूकंप का केंद्र पश्चिम गारो हिल्स रहा, हालांकि भूकंप से अभी तक किसी भी तरह के के नुकसान की सूचना नहीं मिली है। लेकिन सुबह सुबह हुई घटना के बाद लोग के मन में भय व्याप्त जरूर हो गया है।

क्यों आता है भूकंप?
दरअसल पृथ्वी के अंदर 7 प्लेट्स हैं, जो लगातार घूमती रहती हैं। जहां ये प्लेट्स ज्यादा टकराती हैं, वह जोन फॉल्ट लाइन कहलाता है। बार-बार टकराने से प्लेट्स के कोने मुड़ते हैं। जब ज्यादा दबाव बनता है तो प्लेट्स टूटने लगती हैं और नीचे की एनर्जी बाहर आने का रास्ता खोजती है । फिर इस डिस्टर्बेंस के बाद भूकंप आता है।

भूकंप आने पर क्या करें?
– भूकंप आने के बाद अगर आप घर में हैं तो कोशिश करें कि फर्श पर बैठ जाएं।
– या फिर अगर आपके घर में टेबल या फर्नीचर है तो उसके नीचे बैठकर हाथ से सिर को ढक लेना चाहिए।
– भूकंप आने के दौरान घर के अंदर ही रहें और जब झटके रुकने के बाद ही बाहर निकलें।
– भूकंप के दौरान घर के सभी बिजली स्विच को ऑफ कर दें।

भूकंप आने पर क्या ना करें?
– भूकंप के वक्त लिफ्ट का इस्तेमाल तो भूलकर भी न करें।
– भूकंप आने पर अगर आप घर में हैं तो दरवाजे, खिड़कियों और दीवारों से दूर रहें।
– भूकंप के समय अगर आप घर में हैं तो बाहर न निकलें। जहां हैं वही खुद को सुरक्षित करने के प्रयास करें।
– भूकंप के वक्त अगर आप घर से बाहर है तो कोशिश करें कि ऊंची इमारतों और बिजली के खंभों से दूर रहें।

From around the web

>