किसान आंदोलन का 1 साल पूरा होने पर आज करेंगे धरना-प्रदर्शन

 

दिल्ली और अन्य जगहों पर शुक्रवार को बड़े पैमाने पर विरोध प्रदर्शन, तीन विवादास्पद कृषि कानूनों को निरस्त करने की मांग के लिए किसानों द्वारा ‘ऐतिहासिक संघर्ष’ कहे जाने वाले एक वर्ष को चिह्नित करेगा।

किसानों का आंदोलन पिछले साल 26-27 नवंबर को ‘दिल्ली चलो’ के आह्वान के साथ शुरू हुआ था, न केवल तीन कृषि कानूनों का विरोध किया, बल्कि कई अन्य मांगों को भी रखा।

40 किसान संगठनों के एक संघ संयुक्त किसान मोर्चा (एसकेएम) ने एक विज्ञप्ति में कहा, “तथ्य यह है कि इतना लंबा संघर्ष चलना भारत की सरकार की असंवेदनशीलता और उसके अहंकार का एक स्पष्ट प्रतिबिंब है।”

एसकेएम ने कहा, “दुनिया भर में और इतिहास में सबसे बड़े और सबसे लंबे विरोध आंदोलनों में से एक के बारह महीनों के दौरान, करोड़ों लोगों ने इस आंदोलन में हिस्सा लिया, जो भारत के हर राज्य, हर जिले और हर गांव में फैल गया।”

किसान आंदोलन के एक साल पूरे होने और किसानों के बॉर्डर पर जुटने को लेकर दिल्ली पुलिस हाई अलर्ट पर है। पुलिस के आला अधिकारियों और किसान संगठनों के नेताओं के बीच बैठकों का सिलसिला शुरू हो चुका है, लेकिन अभी बातचीत किसी नतीजे पर नहीं पहुंची है। दिल्ली पुलिस के अधिकारियों का कहना है कि किसी को भी कानून व्यवस्था को तोड़ने की इजाजत नहीं दे सकते, लेकिन अगर कोई लोकतांत्रिक तरीके से विरोध प्रदर्शन करके अपनी बात रखना चाहता है, तो उसे रोकेंगे भी नहीं।

From around the web