भगोड़ा घोषित होते ही दिए दर्शन… परमबीर सिंह पर नवाब मलिक ने कसा तंज

 

महीनों से फरार और जबरन वसूली के कई मामलों के आरोपों का सामना कर रहे परम बीर सिंह मुंबई पहुंच गए हैं। परमबीर सिंह को कोर्ट ने भगोड़ा घोषित किया जिसके बाद लंबी चुप्पी तोड़ते हुए उन्होंने बुधवार को बताया था कि वे चंडीगड में हैं और मुंबई पहुंचेंगे। अब इस पर राकांपा नेता और महाराष्ट्र के मंत्री नवाब मलिक ने गुरुवार को परमबीर सिंह पर निशाना साधते हुए कहा कि मुंबई के पूर्व पुलिस आयुक्त को भगोड़ा घोषित किए जाने के बाद आखिरकार पेश होना पड़ा। परमबीर सिंह जबरन वसूली के कई मामलों का सामना कर रहे हैं, पिछले कई महीनों से वे संपर्क से बाहर थे और अब गुरुवार को वह मुंबई पहुंचे, जिसे लेकर उन पर कई तरह के तंज कसे जा रहे हैं।  परमबीर सिंह सुरक्षा पाने के लिए सुप्रीम कोर्ट पहुंचे हैं, उनके वकील ने कोर्ट से कहा है कि उनकी जान को खतरा है। महाराष्ट्र के गृह मंत्री दिलीप वासले ने कोर्ट  परम बीर सिंह के वकील के दावे को लेकर कहा है कि मैं ये जानकर हैरान हूं कि मुंबई और थाने में पुलिस कमिश्नर के पद पर काम कर चुके व्यक्ति को भी जान का खतरा है। उन्होंने कहा कि अगर उन्हें किसी से अपनी जान का खतरा है तो वो हमें बताते हम इस पर गौर कर सकते थे। लेकिन हमें पता ही नहीं कि वह कहा हैं।

नवाब मलिक का तंज
इसके अलावा नवाब मलिक ने परमबीर सिंह के बारे में कहा, "सिंह की आज मुंबई में उपस्थिति ने साबित कर दिया कि यह जरूरी था कि उनके आने के लिए उन्हें भगोड़ा घोषित किया जाए…जब से उन्हें मुंबई पुलिस आयुक्त के पद से ट्रांसफर किया गया उसके बाद से उन्होंने ड्यूटी पर रिपोर्ट नहीं की। गिरफ्तारी से सुरक्षा पाने के लिए सिंह ने सुप्रीम कोर्ट का रुख किया। कोई भी शीर्ष अदालत में उनकी इस दलील पर विश्वास नहीं करेगा कि उन्हें अपनी जान का खतरा है।'' उन्होंने आरोप लगाया कि परमबीर सिंह ने पूर्व गृह मंत्री और राकांपा नेता अनिल देशमुख के खिलाफ ''राजनीति से प्रेरित'' मामले में झूठे आरोप लगाए थे। अदालत में केस लड़ेंगे और अपनी बेगुनाही साबित करेंगे। बुधवार को, परमबीर सिंह ने नए चैनलों से कहा था कि वह चंडीगढ़ में हैं और वह जल्द ही मुंबई का दौरा करेंगे।

पिछले हफ्ते भगोड़ा घोषित किया
पिछले हफ्ते, यहां एक मजिस्ट्रेट की अदालत ने परमबीर सिंह और शहर के कुछ अन्य पुलिस अधिकारियों के खिलाफ दर्ज रंगदारी के एक मामले में सिंह को भगोड़ा घोषित किया था। परमबीर सिंह, वर्तमान में होम गार्ड्स के महानिदेशक के रूप में तैनात हैं, वह पिछले मई में अपने कार्यालय में उपस्थित हुए थे और उसक बाद से वह छुट्टी पर चले गए थे। राज्य पुलिस ने अक्टूबर में बॉम्बे हाईकोर्ट को बताया था कि उनके ठिकाने का कोई पता नहीं चला है। मुंबई पुलिस कमिश्नर के पद से अपने तबादले के बाद परमबीर सिंह ने देशमुख पर भ्रष्टाचार के आरोप लगाए थे। उद्योगपति मुकेश अंबानी के घर 'एंटीलिया' के पास विस्फोटकों वाली एक एसयूवी और बाद में व्यवसायी मनसुख हिरन की संदिग्ध मौत के मामले में मुंबई पुलिस अधिकारी सचिन वेज़ को गिरफ्तार किए जाने के बाद सिंह का तबादला कर दिया गया था।

From around the web