भाजपा कहा- संविधान दिवस का बहिष्कार कांग्रेस की राजशाही मानसिकता का प्रतीक

 

भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) अध्यक्ष जेपी नड्डा ने शुक्रवार को संविधान दिवस कार्यक्रम का बहिष्कार किये जाने पर कांग्रेस की तीखी आलोचना करते हुए कहा कि यह विपक्षी दल की राजशाही मानसिकता का प्रतीक है।

नड्डा ने ट्वीट कर कहा कि आज जब देश के संविधान को सम्मान देने का और बाबासाहेब की विरासत को नमन करने का अवसर था, तब कुछ विपक्षी दलों ने राष्ट्रनीति पर संकीर्ण राजनीति करते हुए इसका बहिष्कार किया और देशहित के ऊपर दलहित और परिवारहित को रखा। उन्होंने इसे संविधान और बाबा साहेब का अपमान करार देते हुए कहा कि जनता ऐसे दल को माफ नहीं करेगी।

भाजपा अध्यक्ष ने आगे कहा कि राहुल गांधी ने बाबासाहेब की 125वीं जयंती का भी विरोध किया था। आज राहुल देश में नहीं दिख रहे हैं, लेकिन कांग्रेस वही रंग दिखा रही है। यह उनकी राजशाही मानसिकता का प्रतीक है। उन्होंने कहा कि कांग्रेस ने, बाबासाहेब के जीवित रहते भी उनका विरोध किया था। उनको चुनाव हराया, उनको कभी उचित सम्मान नहीं दिया।

उल्लेखनीय है कि संसद के केंद्रीय कक्ष में संविधान दिवस के अवसर पर कार्यक्रम का आयोजन किया गया । राज्यसभा में नेता प्रतिपक्ष मल्लिकार्जुन खड़गे और लोकसभा में कांग्रेस के नेता अधीर रंजन चौधरी समेत कांग्रेस सदस्यों ने इसका बहिष्कार किया। कांग्रेस के इस रवैये पर प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने अपने संबोधन में कहा कि जब बाबा साहब की 125 वी वर्षगाँठ थी तब भी कुछ राजनीतिक दलों ने विरोध किया था, आज भी विरोध कर रहे हैं, जो दल खुद लोकतांत्रिक चरित्र खो चुके हों वो क्या लोकतंत्र की क्या रक्षा करेंगे ? उन्होंने कहा कि जब पार्टी की सारी व्यवस्था एक दी दल के पास हो तो यह लोकतंत्र के लिए ठीक नही है। पारिवारिक राजनीतिक पार्टियां लोकतंत्र के लिये खतरा हैं।

From around the web