बंगालः करारी शिकस्त के बाद नेतृत्व में तकरार, उठ रहे ये सवाल

 

पश्चिम बंगाल में भारतीय जनता पार्टी की करारी शिकस्त को लेकर प्रदेश नेतृत्व में तकरार छिड़ गई है। पार्टी के वरिष्ठ नेता और मेघालय तथा त्रिपुरा के राज्यपाल रहे तथागत रॉय ने प्रदेश भाजपा अध्यक्ष दिलीप घोष और प्रभारी कैलाश विजयवर्गीय पर टिकट बंटवारे को लेकर सवाल उठाया है। बड़े पैमाने पर फिल्मी सितारों को टिकट दिए जाने पर सवाल खड़ा करते हुए उन्होंने कहा कि ऐसे फिल्मी और टीवी कलाकारों को टिकट दिया गया जो राजनीतिक तौर पर पूरी तरह से शून्य हैं।

भाजपा उम्मीदवारों जैसे परनो मित्रा, श्रावंती चटर्जी और पायल सरकार का नाम लेते हुए उन्होंने कहा कि ये लोग चुनाव से महज एक महीने पहले तृणमूल उम्मीदवार मदन मित्रा के साथ नाव पर घूम रहे थे और सेल्फी ले रहे थे। उन्होंने पूछा कि आखिर इन्हें किस आधार पर टिकट दिया? इन टीवी कलाकारों को राजनीति की कौन सी समझ थी? ट्विटर पर मंगलवार को उन्होंने लिखा कि कैलाश विजयवर्गीय, दिलीप घोष एंड कंपनी को इसका जवाब देना चाहिए। उन्होंने कहा कि टिकट बंटवारा करने वालों को यह नहीं भूलना चाहिए था कि भाजपा का टिकट हमारे लिए पूंजी है जो योग्य उम्मीदवारों को दिया जाना चाहिए था।

2002 से 2006 तक बंगाल भाजपा के अध्यक्ष रहे तथागत रॉय ने अपने ट्वीट में दावा किया है कि भाजपा के हार के पीछे संभावित कारणों में से एक यह भी है कि राजनीतिक तौर पर शून्य टीवी कलाकारों को उम्मीदवार बनाया गया।

From around the web

>