Mamta minister in EDs custody ममता के मंत्री ईडी की गिरफ्त में

कोलकाता। ममता बनर्जी की सरकार के नंबर दो मंत्री पार्थ चटर्जी को प्रवर्तन निदेशालय, ईडी ने गिरफ्तार कर लिया है। उनकी एक करीबी अर्पिता मुखर्जी के घर से 20 करोड़ रुपए नकद बरामद होने के बाद ईडी ने पार्थ चटर्जी से करीब 24 घंटे तक पूछताछ की और शनिवार की सुबह उनको गिरफ्तार कर लिया। गिरफ्तारी के बाद ईडी ने उनको अदालत में पेश किया, जहां अदालत ने उनको दो दिन के लिए ईडी की हिरासत में भेज दिया। पार्थ चटर्जी के घर पर केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल, सीआरपीएफ की तैनाती की गई है।

प्रवर्तन निदेशालय ने यह कार्रवाई शिक्षक भर्ती घोटाले में की है। इसी सिलसिल में ईडी ने अर्पिता मुखर्जी के घर छापा मारा था। अर्पिता मुखर्जी को भी ईडी ने गिरफ्तार कर लिया है। केंद्रीय एजेंसी ने शुक्रवार को अर्पिता के घर से 20 करोड़ रुपए से ज्यादा की नकद रकम बरामद की थी। बहरहाल, ईडी ने राज्य सरकार के सबसे ताकतवर मंत्री पार्थ चटर्जी को गिरफ्तार करने के बाद कोलकाता के एक अस्पताल में उनका मेडिकल टेस्ट कराया था। इसके बाद कोलकाता ऑफिस ले जाकर उनसे सवाल-जवाब किए गए थे।

शनिवार को दोपहर में ईडी ने उन्हें अदालत में पेश कर रिमांड मांगी थी, जिसके बाद अदालत ने मुखर्जी को दो दिन के लिए जांच एजेंसी की रिमांड पर भेज दिया। पार्थ चटर्जी की गिरफ्तारी पर सियासी विवाद भी हुआ है। पश्चिम बंगाल विधानसभा के स्पीकर बिमान बनर्जी ने इस बात से नाराजगी जताई है कि उन्होंने गिरफ्तारी की सूचना नहीं दी गई। उन्होंने कहा- किसी भी विधायक की गिरफ्तारी की सूचना स्पीकर को देना ईडी का कर्तव्य है। अभी तक मुझे पार्थ चटर्जी की गिरफ्तारी की कोई सूचना नहीं मिली है। मुझे सूचना दिए बिना उन्हें गिरफ्तार करना गलत है।

गौरतलब है कि पश्चिम बंगाल में 2014 और 2016 में शिक्षकों की भर्ती हुई थी। नियुक्ति में धांधली का आरोप लगाते हुए दो परीक्षार्थियों ने हाई कोर्ट में याचिका लगाई थी। हाई कोर्ट ने इस मामले में सीबीआई जांच के आदेश दिए थे। सीबीआई ने पार्थ चटर्जी से 25 अप्रैल और 18 मई को पूछताछ की थी। वे 2014 से लेकर 2021 तक राज्य के शिक्षा मंत्री रहे थे। पूछताछ के बाद सीबीआई ने इस मामले में धन शोधन की शिकायत दर्ज कराई, जिसके बाद ईडी ने इस मामले की जांच शुरू की।

शुक्रवार को ईडी की कई टीमों ने एक साथ पार्थ चटर्जी सहित उनके करीबियों के यहां छापे मारे थे। सूत्रों के मुताबिक छापेमारी के दौरान ईडी की टीम को अर्पिता मुखर्जी के बारे में जानकारी मिली थी। ईडी को अर्पिता के घर से 20 करोड़ नकद मिले थे। अर्पिता के घर से इतनी बड़ी बरामदगी के बाद शुक्रवार की रात को करीब 11 बजे ईडी की एक टीम पार्थ चटर्जी के घर पहुंची। रात भर पूछताछ के बाद शनिवार सुबह उन्हें गिरफ्तार कर लिया गया।