maharashtra politics Devendra Fadanvis फड़नवीस की तारीफ है या तंज?

एनसीपी के नेता और महाराष्ट्र के पूर्व उप मुख्यमंत्री अजित पवार ने राज्य के नए उप मुख्यमंत्री देवेंद्र फड़नवीस को लेकर एक संयोग की ओर इशारा किया। उन्होंने कहा कि वे फड़नवीस को सबसे भाग्यशाली नेता मानते हैं क्योंकि मौजूदा विधानसभा के ढाई साल के कार्यकाल में ही फड़नवीस तीन पदों पर रह चुके। वे पहले राज्य के मुख्यमंत्री बने, फिर नेता विपक्ष बने और अब उप मुख्यमंत्री बन गए हैं। फड़नवीस को भी समझ में नहीं आया कि अजित पवार ने उनकी तारीफ की या उनके ऊपर तंज किया!

ध्यान फड़नवीस जब दूसरी बार मुख्यमंत्री बने तो अजित पवार ने उनके साथ उप मुख्यमंत्री पद की शपथ ली थी। शपथ लेने के एक-दो दिन के बाद ही पवार फिर अपने चाचा के साथ लौट गए थे और एनसीपी के सारे विधायकों ने भी घर वापसी कर ली थी, जिसके बाद फड़नवीस को इस्तीफा देना पड़ा था। उसके बाद वे नेता विपक्ष बने थे। नेता विपक्ष के रूप में फड़नवीस ने ढाई साल तक अथक परिश्रम किया और उद्धव ठाकरे की सरकार गिरा दी।

ठाकरे के इस्तीफे के बाद से फड़नवीस को बधाइयां मिल रही थीं और उनका मुख्यमंत्री बनना तय लग रहा था। लेकिन अंत में उनको अपने नीचे मंत्री के तौर पर काम कर चुके एकनाथ शिंदे के नीचे उप मुख्यमंत्री बनना पड़ा। तभी अजित पवार का इशारा तारीफ कम और तंज ज्यादा था। हालांकि ऐसी किस्मत अजित पवार की भी रही। उन्होंने भी अक्टूबर 2019 में उप मुख्यमंत्री की शपथ ली और इस्तीफा दिया। फिर नवंबर 2019 में उप मुख्यमंत्री बने और अब नेता विपक्ष बन गए हैं।