HomeWorldlawn Balls Team India Won Gold At CWG 2022: पहली बार भारतीय...

lawn Balls Team India Won Gold At CWG 2022: पहली बार भारतीय महिला लॉन बॉल्स टीम ने जीता गोल्ड मेडल

भारतीय महिला लॉन बॉल्स टीम ने जीता गोल्ड मेडल: Commonwealth Games 2022 में 92 साल के इतिहास में पहली बार भारतीय महिला लॉन बॉल्स टीम ने स्वर्ण पदक हासिल किया है. यह वाकई देश के लिए गौरव और इतिहास के पन्नों में दर्ज होने वाला दिन है. इसी के साथ भारत को चौथा गोल्ड मेडल मिल गया है 

CWG 2022 के पांचवे दिन Women’s Lawn Balls Team India ने पहली बार गोल्ड मेडल जीतकर देश का सिर ऊँचा कर दिया है. भारतीय लॉन बॉल्स टीम की महिलाओं वो कर दिखाया है जिसकी उम्मीद किसी ने नहीं की थी. फ़ाइनल मैच में टीम की प्लेयर लवली चौबे, पिंकी, नयनमोनी सैकिया और रूपा रानी टिर्की ने गजब का गेम प्ले किया। बता दें की कॉमनवेल्थ गेम्स साल 1930 से खेला जा रहा है जिसमे कभी भी भारतीय महिला लॉन बॉल्स टीम ने कोई भी मेडल नहीं जीता। CWG 2022 में पहला मेडल जीता तो सीधा गोल्ड में निशाना लगाया। 

सरकार ने टीम को कोच तक नहीं दिया था 

गोल्ड जीतने वाली लॉन बॉल्स टीम की खिलाडियों ने बताया था कि उनकी टीम में कोई कोच नहीं है, पिछली तीन बार जो हमने हार का सामना किया उसकी वजह कोच का ना होना ही था. लेकिन इस बार बर्मिंघम की तैयारी के लिए लॉन बॉल्स फेडरेशन ऑफ़ इंडिया की मदद से 5 महीने पहले से ही हमारी प्रैक्टिस शुरू हो गई थी. CWG 2022 में भाग लेने के लिए Women’s Lawn Balls Team India सिर्फ चार दिन पहले बर्मिंघम पहुंची थी जहां प्लेयर्स ने जमकर प्रैक्टिस की और उसका नतीजा आज आपके सामने है. 

40 बार जीती न्यूजीलैंड को हरा दिया 

भारतीय महिला लॉन बॉल्स टीम ने उस न्यूजीलैंड की टीम को हार का स्वाद चखाया है जो इस खेल में 40 बार जीतता आया है. वहीं टीम इंडिया ने इंग्लैंड हो भी कराया है जिसने इस खेल में 51 बार पदक जीते हैं. ऑस्ट्रेलिया ने भी इस खेल में 50 पदक जीते हैं. लेकिन भारत ने पहला पदक जीता और गोल्ड ही जीता। 

लॉन बॉल्स गेम क्या होता है 

इस खेल को घांस वाली पिच में खेला जाता है, इसमें खिलाडी को अलग-अलग रंगों की गेंदों को 23 मीटर दूर से टारगेट जिसे जैक कहते हैं उसके पास पहुंचाना होता है. जिसकी बॉल जैक के सबसे करीब जाती है उसे पॉइंट मिलते हैं, हर एक खिलाडी बारी-बारी से गेंद को लुढ़काता है. जैक एक छोटी बॉल होती है जो 63-67MM की होती है जबकि बड़ी बॉल का साइज़ 112-134MM का होता है. यह बॉल ऐसी डिज़ाइन से बनाई जाती है जो कभी सीधे की तरफ नहीं लुढ़कती। 

जब बॉल जैक के पास पहुंच जाती है तो पॉइंट मिलता है, सिंगल्स में पहले 21 पॉइंट हासिल करने वाले खिलाड़ी को विनर घोषित किया जाता है, जबकि डबल्स, ट्रिपल्स और फोर्स में 18 प्वाइंट पर जीत मिल जाती है। 

RELATED ARTICLES

Most Popular

Recent Comments