Koshyari asked for Central Force कोश्यारी ने सेंट्रल फोर्स मांगी!

0
24

मुंबई। एक अभूतपूर्व घटनाक्रम में महाराष्ट्र के राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी ने राज्य में कानून व्यवस्था बनाने के लिए केंद्रीय सुरक्षा बलों की मांग की है। राज्यपाल ने केंद्रीय गृह सचिव को चिट्ठी लिख कर कहा है कि केंद्रीय बलों को तैयार रखा जाए। अगर राज्य में कानून व्यवस्था की स्थिति बिगड़ती है तो उनकी तैनाती की जाएगी। यह भी कहा जा रहा है कि नवी मुंबई के तलोजा में बेस कैंप में अतिरिक्त केंद्रीय बल पहुंच भी गए हैं। भाजपा के एक नेता का कहना है कि शिव सेना के बागी विधायक मुंबई लौटेंगे तो उनकी सुरक्षा केंद्रीय बलों को दी जाएगी।

एक तरफ भाजपा के नेता, शिव सेना के विधायकों की बगावत को शिव सेना का आंतरिक घटनाक्रम बता रहे हैं और दूसरी ओर राज्यपाल एक राजनीतिक घटनाक्रम में केंद्रीय सुरक्षा बलों की मांग कर रहे हैं। यह संभवतः पहली बार हो रहा है, जब राजनीतिक घटनाक्रम में केंद्रीय बलों की तैनाती की जरूरत बताई जा रही है और उसकी तैयारी हो रही है। बहरहाल, राज्यपाल कोश्यारी ने केंद्रीय सुरक्षा बलों की मांग वाली चिट्ठी 25 जून को लिखी थी, तब वे अस्पताल में भी भर्ती थे।

केंद्रीय गृह सचिव अजय भल्ला को लिखी चिट्ठी में राज्यपाल कोश्यारी ने यह भी लिखा है कि उन्होंने राज्य पुलिस को निर्देश दिया था कि वह विधायकों को पर्याप्त सुरक्षा मुहैया कराए लेकिन पुलिस मूकदर्शक बनी रही। इससे पहले नौ विधायकों ने कहा था कि उनकी सुरक्षा हटा ली गई है और उनके परिवार सदस्यों को खतरा है। उसके बाद केंद्र सरकार ने इन विधायकों के परिजनों को केंद्रीय सुरक्षा बलों की सुरक्षा मुहैया करा दी है। ध्यान रहे पिछले दो-तीन दिन से कई विधायकों के कार्यालयों पर हमला हुआ है और उनके पोस्टर आदि फाड़े गए हैं। हालांकि किसी विधायक के घर पर या उसके परिजन पर हमले की कोई घटना नहीं हुई है।

असल में शिव सेना से बगावत करने वाले कई विधायकों के बारे में कहा जा रहा है कि वे अपनी पार्टी के संपर्क में हैं और मुंबई लौटने के बाद शिव सेना खेमे में वापस लौट सकते हैं। अगर उनकी सुरक्षा राज्य की पुलिस के हवाले रही तो शिव सेना के लिए उनसे संपर्क करना और अपने साथ वापस लाना आसान होगा। संभवतः इसी वजह से कानून व्यवस्था का बहाना बना कर बागी विधायकों को केंद्रीय सुरक्षा बलों की देख-रेख में रखने की तैयारी हो रही है। भाजपा के एक नेता ने कहा कि शिव सेना के बागी विधायकों के मुंबई लौटने पर हवाईअड्डे से राजभवन तक उनको केंद्रीय बलों की देख-रेख में ले जाया जाएगा।