Kisan Credit Card: कम ब्याज पर किसानों को मिल रहा लोन, आप भी उठाएं योजना का लाभ

0
21

Kisan Credit Card: किसानी से जुड़े कार्यों को करने में किसानों को आर्थिक समस्या का सामना न करना पड़े इसके लिए सरकार ऋण दे रही है। किसानों को यह ऋण (Loan) सबसे कम दर पर दिया जाता है। जिससे किसान आसानी से इस ऋण को चुकता भी कर सके। साथ ही सरकार ब्याज का कुछ हिस्सा अनुदान के तौर पर जमा करती है। सबसे बड़ी बात यह है कि अगर किसान समय पर ऋण की अदायगी कर देता है तो उसे ब्याज की दर पर छूट मिल जाती है। आइए जानें सरकार किस योजना के माध्यम से किसानों का सहयोग कर रही।

बनवाएं क्रेडिट कार्ड

Kisan Credit Card Kaise Banwaye: सरकार किसानों को आर्थिक सहयोग प्रदान करने के लिए किसान क्रेडिट कार्ड योजना केसीसी (KCC Scheme) उपलब्ध करवाती है। किसान अपने किसी भी नजदीकी बैंक में जाकर केसीसी के लिए आवेदन कर सकते हैं। केसीसी में किसानों को सबसे कम ब्याज दर पर ऋण उपलब्ध करवाया जा रहा है।

ऐसे करें आवेदन

KCC Ke Liye Kaise Apply Karen: किसान केसीसी के लिए ऑनलाइन माध्यम से भी आवेदन कर सकते हैं। इसके लिए सबसे पहले किसान क्रेडिट कार्ड की आधिकारिक वेबसाइट पर जाना होगा जहां किसान क्रेडिट कार्ड फॉर्म डाउनलोड कर जमीनी दस्तावेज के साथ फार्म को भरें। आवेदन में पूरी जानकारी भरकर उसे सबमिट कर दें। इसके बाद संबंधित बैंक से किसान क्रेडिट कार्ड मिल जाएगा।

5 वर्ष करता है काम

KCC Validity: एक बार किसान क्रेडिट कार्ड बनवाने के बाद वह केसीसी 5 वर्ष तक काम करता है। इसके बाद किसान क्रेडिट कार्ड को रिनुअल करवाना पड़ेगा। अगर इन 5 वर्षों में किसान का बैंक के साथ लेनदेन सही और बराबर रहा तो हर हाल में किसानों को केसीसी ऋण रिनुअल करवाने में कोई दिक्कत नहीं होगी। बैंक बड़ी आसानी के साथ केसीसी रिनुअल कर देंगे।

कितना मिलता है कर्ज

KCC Loan Limit: किसानों को केसीसी के माध्यम से कम से कम 160000 रुपए तक लोन के रूप में प्राप्त हो जाते हैं। अगर बैंकिंग लेनदेन ठीक रहा और रिन्यू के समय अगर किसान केसीसी का दायरा बढ़ाने के लिए बैंक से कहता है तो आवश्यकता के अनुसार बैंक केसीसी का दायरा अवश्य ही बढ़ा देगा।

कितनी है ब्याज दर

KCC Loan Interest Rate: जानकारी के अनुसार केसीसी में किसानों को 8 प्रतिशत की दर से ऋण उपलब्ध करवाया जाता है। लेकिन इसमें 2 प्रतिशत सरकार द्वारा सब्सिडी दी जाती है। अगर किसान निर्धारित समय पर इसी में लिया हुआ ऋण जमा कर देता है तो उसे 2 प्रतिशत अतिरिक्त ब्याज में छूट दी जाती है। इस तरह की शान को समय पर ऋण जमा करने पर मात्र 4 प्रतिशत ब्याज देना होगा।