Kejriwal is raising controversy केजरीवाल विवाद बढ़ा रहे हैं

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल केंद्र सरकार और भाजपा के साथ टकराव बढ़ा रहे हैं। उन्होंने दिल्ली के नए उप राज्यपाल के खिलाफ मोर्चा खोला है तो केंद्र सरकार खास कर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के खिलाफ भी मोर्चा खोला है। ऐसा लग रहा था कि नए उप राज्यपाल एनजीओ चलाने वाले रहे हैं और खुद केजरीवाल ने बरसों तक एनजीओ चलाई है तो दोनों में संबंध ठीक रहेंगे। लेकिन विनय सक्सेना के साथ पिछले उप राज्यपाल से ज्यादा संबंध खराब हो गए हैं। सक्सेना ने राज्य सरकार की शराब नीति की जांच सीबीआई को सौंप दी है। इससे केजरीवाल इतने नाराज हुए कि शुक्रवार को उप राज्यपाल के साथ होने वाली साप्ताहिक बैठक में शामिल होने नहीं गए। खराब तबियत के हवाले वे बैठक में नहीं शामिल हुए।

इसके बाद रविवार को राज्य सरकार के वन और पर्यावरण मंत्रालय के कार्यक्रम में भी वे नहीं गए। उन्होंने आरोप लगाया है कि दिल्ली पुलिस को भेज कर केंद्र सरकार ने कार्यक्रम को हाईजैक कर लिया। वृक्षारोपण के इस कार्यक्रम में उप राज्यपाल, मुख्यमंत्री और वन वन पर्यावरण मंत्री को शामिल होना था। इसकी होर्डिंग पर उप राज्यपाल और मुख्यमंत्री की फोटो लगी थी और वह विज्ञापन एलईडी स्क्रीन पर लगाया गया था। लेकिन कार्यक्रम से ठीक पहले एक नई होर्डिंग लाकर उस एलईडी स्क्रीन के ऊपर लगा दी गई, जिस में ऊपर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की फोटो लगी थी। इससे नाराज होकर उन्होंने कार्यक्रम का बहिष्कार किया। इससे पहले प्रेस कांफ्रेंस करके उन्होंने प्रधानमंत्री पर निशाना साधा था।