IPL 2022 के बीच मैच फिक्सिंग को लेकर बवाल, CBI ने सात लोगों को किया गिरफ्तार

0
37

दुनिया की सबसे बड़ी लीग इंडियन प्रीमियर लीग (IPL) का हमेशा से ही विवादों से गहरा नाता रहा है। जहां अक्सर मैच फिक्सिंग को लेकर मामले सामने आते रहते है। तो वहीं आईपीएल के 15वें सीजन में भी मैच फिक्सिंग और सट्टेबाजों का मामला खुलकर सामने आया है। बता दें IPL 2022 के बीच सीबीआई ने मैच फिक्सिंग के 7 आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया है, जिससे पूरे क्रिकेट गलियारों में बवाल मच गया है। आइये इस आर्टिकल के जरिए आपको बताते है इस पूरे मामले के बारे में..

IPL में पाकिस्तान से चल रहा है मैच फिक्सिंग का खेल

Ipl 2022

दरअसल IPL 2022 के बीच मैच फिक्सिंग का मामला सामने आया है। इस मामले में केंद्रीय जांच एजेंसी सीबीआई(CBI) ने 7 लोगों को गिरफ्तार कर लिया है। मिली जानकारी के अनुसार इन लोगों को पाकिस्तान से आईपीएल मैच फिक्स करने का इनपुट मिलता है। आईपीएल के बीच इस खबर ने बवाल मचा कर रख दिया है क्योंकि इस लीग पर बार-बार फिक्सिंग को लेकर आरोप लगते हैं। कई बार आईपीएल में पहले भी खिलाड़ियों और टीमों को फिक्सिंग के आरोप में बैन किया गया है। ऐसे में अब एक और नया मामला काफी तेजी से चर्चा का विषय बन रहा है।

इन जगहों पर CBI ने मारा छापा

Ipl

बता दें कि IPL के इस मैच फिक्सिंग का ये मामला साल 2019 का बताया जा रहा है। वहीं इस मामले में अब सीबीआई ने एक्शन लेते हुए जयपुर, दिल्ली और जोधपुर की 7 जगहों पर रेड मारी है। वहीं रिपोर्ट में सामने आया है कि 2019 के वक्त ये लोग आईपीएल में फिक्सिंग को अंजाम देते थे और इनका पाकिस्तान से सीधा कनेक्शन भी था। वहीं जिन लोगों को गिरफ्तार किया गया है उनमें दिल्ली के रोहिणी से एजेंसी ने दिलीप कुमार, जबकि हैदराबाद से गुर्रम वासु और गुर्रम सतीनश का नाम शामिल है।

वहीं सीबीआई अधिकारियों ने बताया है कि ये रैकेट 2013 से सक्रिय है और इसने फर्जी बैंक अकाउंट बनाकर कई लोगों के साथ सट्टेबाजी के नाम पर धोखाधड़ी भी की है। इन सट्टेबाजों ने फर्जी दस्तावेज बनाकर बैंक अकाउंट खोले, जिसमें कथित तौर पर बैंक अधिकरियों की ओर से जरूरी जांच पड़ताल नहीं की गई। ऐसा कहा जा रहा है कि लोगों से पैसा वसूल कर ये आरोपी विदेशों में बैठे अपने सथियों तक पैसे भेज रहे थे।

2013 में आया था स्पॉट फिक्सिंग का मामला

Ipl

आईपीएल (IPL) पुरी दुनिया की सबसे बड़ी लीग है, वहीं इतनी बड़ी लीग में विवाद होना तो लाजमी ही है। वहीं कुछ साल पहले फभी सट्टेबाजी और मैच फिक्सिंग के मामले लीग में आए थे। साल 2013 में राजस्थान रॉल्स के भारतीय तेज गेंदबाज एस श्रीसंत , अशोक चंदीला और अंकित चव्हाण स्पॉट फिक्सिंग के मामले में फंसे थे और दिल्ली पुलिस ने इन्हें गिरफ्तार किया था। इसके बाद इन खिलाड़ियों पर बीसीसीआई ने अजीवन बैन भी लगाया था।