इन बीमारियों से बचाती है गेंहू-चने की मिक्‍स रोटी, जानिए इसके फायदे!

 
गेंहू और चने के आटे की मिक्‍स रोटी सेहत के लिए बहुत फायदेमंद होती है। यह न सिर्फ आपको कई बीमारियों ये बचाती है, बल्कि डायबिटीज जैसी बीमारी होने पर अगर आप गेंहू और चने के आटे की मिक्‍स रोटी खाते हैं, तो आपका शुगर लेवल कंट्रोल हो सकता है। आइए जानते हैं क्‍या है गेंहू और चने के आटे की मिक्‍स रोटी के फायदे....

डायबिटीज में फायदेमंद
चने के आटे में ग्लिसेमिक इंडेक्स कम होता है। इसलिए इसे डायबिटीज के रोगियों के लिए बेहतर आहार माना जाता है। इससे उनका शुगर लेवल कंट्रोल रहता है। डायबिटीज के रोगियों को हर रोज गेंहू-चने के आटे की मिक्‍स रोटी खाने की सलाह दी जाती है।

कोलेस्ट्रॉल लेवल का नियंत्रण
चने के आटे में अनसैचुरेटेड फैट्स मौजूद होता है। गेंहू के आटे के साथ मिलकर यह हमारे स्वास्थ के लिए लाभकारी होता है। जिससे हमारे शरीर का कोलेस्ट्रॉल लेवल बेहतर रहता है। दोनों अनाजों की मिक्‍स चपाती गुड कॉलेस्‍ट्रॉल की उपस्थिति बनाए रखती है।

अच्‍छा रहता है मूड
गेंहू और चने का आटा हाई फाइबर सोर्स है। जिससे पाचन तंत्र अच्‍छा रहता है। चने के आटे में भरपूर मात्रा में आयरन पाया जाता है। डॉक्‍टर मानते हैं कि अगर शरीर में आयरन-कैल्श्यिम सही मात्रा में हो तो हम तनाव के कम शिकार होते हैं। जिससे मूड भी अच्‍छा रहता है। इसमें विटामिन बी6 भी पाया जाता है जो सेरोटोनिन बनाने में मदद करता है। सेरोटोनिन मूड को बेहतर करने में मदद करता है और तनाव से भी दूर रखता है।

गर्भावस्‍था में है लाभकारी
गेंहू और चने के मिक्‍स आटे की रोटी गर्भावस्‍था में भी बहुत लाभकारी मानी जाती है। इसमें मौजूद फॉस्‍फोरस और कैल्शियम गर्भस्‍थ शिशु के स्‍वास्‍थ्‍य के लिए लाभकारी माना जाता है। यह फोलेट का एक बेहतरीन सोर्स है। जो गर्भ में पल रहे बच्चे के दिमाग, रीढ़ की हड्डी और पूर्ण विकास के लिए जरूरी तत्‍व माना जाता है।

क्‍या है गेंहू चने की मिक्‍स रोटी 
गेंहू और चने के आटे की मिक्‍स रोटी, पारंपरिक भारतीय चपाती है। इसमें 1:2 के अनुपात में चने का आटा और गेंहू का आटा मिक्‍स किया जाता है। जिससे सेहत को दोनों अनाजों के लाभ मिल सकें। गेंहू चने के आटे की मिक्‍स रोटी बनाने के लिए एक कप चने के आटे में दो कप गेंहू का आटा मिलाया जाता है। आप चाहें तो इसे एक साथ पिसवा कर भी रख सकते हैं।

From around the web

>